नई पोस्ट करें

अजनारा करेगी गाजियाबाद में नई हाउसिंग परियोजना की शुरुआत, होगा 300 करोड़ रुपए का निवेश

2022-09-30 02:27:54 492

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशबीजेपी ने दिया महाविकास आघाड़ी को बड़ा झटका, जीतीं 6 में से 4 सीटें******Highlightsमहाराष्ट्र विधान परिषद की छह सीटों पर हुए चुनाव में भारतीय जनता पार्टी ने सत्तारूढ़ महाविकास आघाड़ी (एमवीए) को झटका देते हुए नागपुर सहित चार सीटों पर जीत दर्ज की। पार्टी ने अकोला-बुलढाणा-वाशिम सीट शिवसेना से छीन ली। महाराष्ट्र विधानसभा में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फड़णवीस ने बीजेपी की जीत पर प्रतिक्रिया करते हुए कहा कि बीजेपी ने एमवीए के इस मिथक को तोड़ दिया है कि तीनों दल (शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस) राज्य में मिलकर सभी चुनाव जीत सकते हैं। चुनाव आयोग ने 10 दिसंबर को महाराष्ट्र विधान परिषद की छह सीटों पर मतदान की घोषणा की थी। की दो सीटों पर हुए चुनाव में शिवसेना (सुनील शिंदे) और बीजेपी (राजहंस सिंह) ने एक-एक सीट पर निर्विरोध जीत हासिल की। कोल्हापुर और नंदुरबार-धुले विधान परिषद चुनावों में भी कांग्रेस और बीजेपी ने क्रमशः एक-एक सीट पर निर्विरोध जीत दर्ज की। नागपुर तथा अकोला-बुलढाणा-वाशिम सीटों पर 10 दिसंबर को मतदान हुआ था। जिला सूचना कार्यालय के अनुसार, नागपुर में पड़े 554 मतों में से बीजेपी उम्मीदवार और राज्य के पूर्व ऊर्जा मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले को 362 मत मिले, जबकि एमवीए द्वारा समर्थित निर्दलीय उम्मीदवार मंगेश देशमुख को 186 वोट हासिल किये।मतदान से एक दिन पहले कांग्रेस उम्मीदवार रवींद्र भोयर ने चुनाव लड़ने से मना कर दिया था, जिसके बाद पार्टी ने देशमुख का समर्थन किया था। हालांकि, बाद में भोयर ने चुनाव लड़ा और उन्हें केवल एक वोट मिला। अकोला-वाशिम-बुलढाणा में बीजेपी के वसंत खंडेलवाल ने शिवसेना के तीन बार के विधान पार्षद गोपीकिशन बाजोरिया को हाराया। खंडेलवाल को कुल 808 वोटों में से 443 जबकि बजोरिया को 334 वोट मिले।बीजेपी नेता देवेंद्र फड़णवीस ने कहा, “एमवीए के दल दावा कर रहे थे तीनों दल मिलकर सभी चुनाव जीतेंगे। हमने इस मिथक को चकनाचूर कर दिया है और मुझे लगता है कि इस जीत ने हमारी भविष्य की जीत की नींव रखी है।'' खंडेलवाल ने अपनी जीत का श्रेय अपनी पार्टी की सफल रणनीति को दिया। बावनकुले ने पत्रकारों से बात करते हुए कहा कि एमवीए के पास 240 वोट थे, लेकिन एमवीए समर्थित उम्मीदवार को केवल 186 वोट मिले।महाराष्ट्र कांग्रेस अध्यक्ष नाना पटोले पर बावनकुले ने निशाना साधते हुए उन पर निरंकुश तरीके से व्यवहार करने का आरोप लगाया और उनके इस्तीफे की मांग की। उन्होंने कहा कि कांग्रेस को आत्ममंथन करना चाहिए कि उनके वोट क्यों बंटे। उन्होंने कहा, ''दो दिन तक वे खरीद-फरोख्त में लिप्त रहे, फिर भी वे अपनी पार्टी को साथ नहीं रख सके। कांग्रेस नेताओं की यह सही मायने में हार है। कांग्रेस नेता निरंकुश तरीके से व्यवहार कर रहे हैं। नाना पटोले पार्टी की प्रदेश इकाई के काम के लिये उपयुक्त नहीं हैं और उन्हें इस्तीफा दे देना चाहिए।''

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशब्लड शुगर को नियंत्रित करने में कारगर है पनीर का फूल, ऐसे कीजिए इस्तेमाल******Highlightsडायबिटीज रोगी की सेहत इस बात पर निर्भर करती है कि उसकी डाइट क्या है। रोगियों को अक्सर अपनी डाइट को लेकर चिंता रहती है क्योंकि वो किसी ऐसी चीज का सेवन नहीं कर सकते जिससे उनके शरीर में ब्लड शुगर बढ़ जाए। ऐसे में शुगर के मरीज डाइट को लेकर काफी सजग रहते हैं। लेकिन कुछ औषधियां आयुर्वेद में बताई गई हैं जो ब्लड शुगर कंट्रोल करती हैं और इसी में से एक है पनीर का फूल।पनीर का फूल पनीर डोडी, इंडियन रेनेट और पनीरबंद के नाम से भी जाना जाता है। पनीर का फूल भारतीय जड़ी बूटी सोलानेसी के परिवार से संबंध रखता है और इसे आयुर्वेदिक दवाएं बनाने में इस्तेमाल किया जाता है। इसका वैज्ञानिक नाम विथानिया कोगुलांस (Withania coagulans) है।हैल्थ एक्सपर्ट कहते हैं कि पनीर डोडी यानी पनीर का फूल शरीर में अग्नाशय के उन बीटा सेल को दुरुस्त करता है जिनसे इंसुलिन बनता है। पनीर के फूल के सेवन से ब्लड शुगर को कंट्रोल किया जा सकता है क्योंकि इंसुलिन का उत्पादन करने वाले बीटा सेल पनीर के फूल के तत्वों से रिपेयर होते रहते हैं।गलत खानपान की वजह से ये बीटासेल जब कमजोर या खराब होते हैं तो इंसुलिन कम बनने लगता है और शरीर में ब्लड शुगर बढ़ जाता है।यानी पनीर के फूल यानी पनीर डोडी का सही मात्रा में सेवन किया जाए तो यह शुगर को कंट्रोल करने में मदद करता है।पनीर का फूल डायबिटीज के अलावा अलमाइजर, अनिद्रा,मोटापा, त्वचा विकार, अस्थमा और यूरिन इन्फेक्शन दूर करने में भी बेहद लाभकारी है।डायबिटीज के रोगी पनीर के 8 से 10 फूलों को रात भर के लिए पानी में भिगोकर रख दें। सुबह उठकर खाली पेट इस पानी को पी लीजिए।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशवजन कम करने के लिए अदरक को 3 तरह से करें इस्तेमाल, दिखेगा असर******बढ़ा हुआ वजन किसी को भी पसंद नहीं होता। खासतौर पर आजकल के दौर में जहां हर कोई अपनी फिटनेस को लेकर बहुत ज्यादा पॉजेसिव है। हालांकि वर्क फ्रॉम होम की वजह से एक ही जगह काम करने पर ज्यादातर लोग बढ़े हुए वजन और बेडौल शरीर से परेशान है। अगर आप भी बढ़े हुए वजन से परेशान हैं और इसे कंट्रोल करना चाहते हैं तो कुछ घरेलू नुस्खे ट्राई कर सकते हैं। ये नुस्खा अदरक का है। जानें अदरक किस तरह से वजन को कंट्रोल करने में असरदार है। साथ ही इसका इस्तेमाल किस तरह से किया जाए ये भी जानिए।चाय का स्वाद बढ़ाने और गले की खराश दूर करने के अलावा अदरक का इस्तेमाल आप वजन को कम करने के लिए भी कर सकते हैं। एक शोध के अनुसार अदरक का सेवन करने से पेट लंबे वक्त तक भरा रहता है। इससे भूख कम लगती है। दूसरे शोध के अनुसार अदरक वजन को कम करने में असरदार है। इसमें मौजूद एंटी ऑक्सीडेंट्स तनाव को कम करने में कारगर होता है। इसके साथ ही ये फ्री रेडिकल्स से होने वाले नुकसान को भी भरता है जिससे मोटापे को घटाने में मदद मिलती है।एक गिलास पानी में अदरक को उबालें। अब गैस को बंद कर पानी को छानकर गिलास में करें। इसमें अब नींबू के रस की कुछ बूंदें डालें और पिएं। ऐसा करने से आपको असर दिखेगा।सेब का सिरका को आप अगर अदरक के रस के साथ मिलाकर पिएंगे तो भी ये आपके वजन को घटाने का काम करेगी।एक पैन में एक कप पानी में आधा चम्मच कद्दूकस किया हुआ अदरक डालकर धीमी आंच में पकाएं। करीब 5 से 6 मिनट बाद इसे छानें। अब इसमें नींबू और शहद मिला लें। रात को सोने से पहले इस चाय का सेवन करें। कुछ ही दिनों में आपको असर नजर आने लगेगा।

अजनारा करेगी गाजियाबाद में नई हाउसिंग परियोजना की शुरुआत, होगा 300 करोड़ रुपए का निवेश

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशPM Narendra Modi Birthday: प्रधानमंत्री के गिफ्ट वाले चीतों को किया जाएगा 1 महीने क्वारंटाइन, शिकार से लेकर सुरक्षा तक की उत्तम व्यवस्था, मिलेगी उनको ढेर सारी सुविधाएं******Highlightsप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का जन्मदिन 17 सितंबर को है। जन्मदिन के मौके पर हमेशा पीएम मोदी भारतवासियों को कुछ ना कुछ तोहफा देते हैं। इस बार भी अपने जन्मदिन को खास बनाने के लिए प्रधानमंत्री ने अफ्रीका के नामीबिया से लाए जा रहे 8 चीतों को मध्य प्रदेश के कूनो नेशनल पार्क में छोड़ेंगे।अब आपको कूनो नेशनल पार्क में दुनिया का सबसे तेज जानवर दिखाई देगा। भारत की धरती से यह जानवर विलुप्त हो चुका था लेकिन प्रधानमंत्री के प्रयासों के कारण फिर से भारत की धरती पर चीतों का राज होने वाला है। कूनो नेशनल पार्क मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल से करीब 400 किलोमीटर दूरी पर मौजूद है। प्रधानमंत्री इसी मौके पर वह मध्य प्रदेश जाएंगे।शुक्रवार को नामीबिया से चीतों को लेकर स्पेशल कार्गो विमान भारत के लिए उड़ान भरेगा और 17 सितंबर को 5 नर और 3 मादा चीते लेकर यह विमान जयपुर एयरपोर्ट पर लैंड करेगा। इसके बाद दो हेलीकॉप्टर यहां से इन चीतों को लेकर कूनो पालपुर के लिए उड़ान भरेगा। जयपुर से यहां तक पहुंचने में लगभग 42 मिनट लग जाएगा।पीएम मोदी इंडियन एयर फोर्स के हेलीकॉप्टर से सीधे कूनो नेशनल पार्क पहुंचेंगे। हेलीकॉप्टर को उतरने के लिए 10 हेलीपैड श्योंपुर पीडब्ल्यूडी विभाग द्वारा बनाया गया है। इनमें से 5 कूनो नेशनल पार्क के अंदर हैं और 5 हेलीपैड कराहल में बनाए गए हैं। मध्य प्रदेश के प्रधान मुख्य वन संरक्षक जे चौहान के अनुसार, पार्क के अंदर बनाए गए 5 वर्ग किलोमीटर के विशेष वाले गेट से नंबर-3 से चीता को अंदर छोड़ेंगे। इस संबंध में आगे जानकारी देते हुए उन्होंने बताया कि चीतों को एक महीने तक कोक्वारंटाइन रखा जाएगा।आपको बता दें कि चीतों को 2 से 3 महीने तक 5 वर्ग किलोमीटर के संरक्षित एरिया में रखा जाएगा। इस क्षेत्र को 8 फीट ऊंची फेसिंग से पूरी तरह से घेर दिया गया है और इसके 3 लेयर भी बनाए गए हैं। लेयर संबंध में बात करें तो बाहरी लेयर में सोलर से संचालित करंट छोड़ा गया है जो बाहरी जानवरों को इससे दूर रखेगी। जो एरिया संरक्षित रखा गया है, उनमें 8 बाड़े बनाए गए हैं जिनमें चीतों को अलग अलग रखा जाएगा। वही हर छोटे-बड़े की निगरानी के लिए 4 वॉच टावर और चार पावरफुल कैमरे भी सेट किए गए हैं। हर वॉच टावर 2 किलोमीटर एरिया की निगरानी करने की क्षमता रखता है। वही कैमरा 6 किलोमीटर तक पूरी अस्पष्ट दृश्य दिखाएगा।चीतों के भोजन के लिए पहले से ही खास प्रबंध कर दिए गए हैं। उन्हें शिकार के लिए कहीं भटकना नहीं पड़ेगा। जो एरिया संरक्षित किया गया है, उनमें पहले से करीब 200 सांभर, चीतल और अन्य जानवर पर लाकर बसा दिए गए हैं। वर्तमान में इनकी संख्या तेजी से बढ़ रही है जिससे चीतों को शिकार का भरपूर मौका मिलेगा। वही पार्क के चारों तरफ 5 किलोमीटर के दायरे में आने वाले गांव में 1000 से ज्यादा कुत्तों को एंटी रेबीज टीके लगा दिए गए हैं इससे चीते को रैबिज से शिकार होने की संभावना कम हो जाएगी। वन अधिकारियों का कहना है कि अगर कोई पागल कुत्ता किसी तरह से पार्क में प्रवेश कर जाता है और वहां मौजूद जानवरों को काट लिया तो वे रेबीज का शिकार हो सकते हैं। इन्हीं को ध्यान में रखते हुए आसपास के इलाकों में रहने वाले कुत्तों को एंटी रेबीज टीके लगाए गए।भारत की धरती से चीतों की खात्मा 1948 में ही हो गई थी। साल 1948 में छत्तीसगढ़ के कोरिया स्थित जंगल में एक मृत चीता का शव मिला था। भारत सरकार ने आधिकारिक तौर पर साल 1952 में चीतों को भारत से विलुप्त घोषित कर दिया था। इसके बाद साल 2009 से अफ्रीका से भारत में चीते लाने की पहल शुरू की गई। हालांकि कांग्रेस की लचर व्यवस्था ने इसे ठंडे बस्ते में डाल दिया। ‌अब मोदी सरकार ने इस पहल मैं काफी दिलचस्पी दिखाई है और फिर से भारत में चीते दिखाई देंगे।वैज्ञानिकों के अनुसार चीते सबसे पहले हिमयुग में साउथ अफ्रीका में मायोसिन युग में आज से करीब 2.6 करोड़ वर्ष पहले देखे गए। इसके बाद धीरे-धीरे अफ्रीकी महाद्वीप से एशियाई महाद्वीप में इनका प्रवास शुरू हुआ। करीब 1.1 करोड़ वर्ष पहले एशिया में प्लायोसिन युग में इनकी मौजूदगी पाई गई। वैज्ञानिकों के अनुसार बिल्ली, चीता, बाग, तेंदुआ और शेर एक ही प्रजाति के प्राणी हैं। यानि चीता बिल्लियों के ही परिवार का सदस्य है।जिनमें समय-समय पर परिवर्तन होता रहा। जलवायु परिवर्तन के साथ ये सभी प्राणी अपने ठिकाने, जीने के तौर-तरीके बदलते रहे। साथ ही इनमें शारीरिक और आनुवांशिक परिवर्तन भी होते रहे। दुनियां में चीते की कई प्रजातियां है। वहीं बड़ी बिल्ली परिवार से संबंध रखने वाले कुछ चीतों को पांच करोड़ साल पहले व्यूत्पन्न माना जाता है। यानि जो किसी दूसरी जातियों से पैदा हुए।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशकेन्द्र ने राज्यों से कृषि कोष का 30 प्रतिशत महिला किसानों पर खर्च करने को कहा******नई दिल्ली। केन्द्र सरकार ने राज्यों को निर्देश दिया है कि वे कृषि योजनाओं के लिए आवंटित किए गए धन के 30 प्रतिशत हिस्से का महिलाओं पर खर्च करें जिनकी देश के कृषि कामगारों में पर्याप्त हिस्सा है। कृषि मंत्री राधा मोहन सिंह ने यह जानकारी दी है। हालांकि, उन्होंने भारत में महिला सहकारी संस्थाओं की नगण्य संख्या को लेकर चिंता व्यक्त की और वित्तीय मदद देकर इसे मजबूती देने की आवश्यकता पर जोर दिया।एनसीडीसी द्वारा यहां आयोजित महिला सहकारिता के सुदृढीकरण पर राष्ट्रीय कार्यशाला में सिंह ने कहा, देश की आबादी का करीब 60 फीसदी हिस्सा कृषि पर निर्भर है। जिसमें से महिलायें करीब 30 प्रतिशत हैं। हमने राज्यों से कहा है कि हमारी सारी योजनाओं और कार्यक्रमों में महिलाओं को साझेदार बनाएं।एनसीडीसी के प्रबंध निदेशक वसुधा मिश्रा ने कहा कि महिला सहकारी संस्थाओं को अपने उत्पादों का विपणन करने में मुश्किल पेश आती है इसलिए कार्पोरेशन ने उन्हें बाजार संपर्क और प्रशिक्षण देने का फैसला किया है ताकि वे बेहतर डिजाइन के साथ उत्पादों का विनिर्माण कर सकें। उन्होंने कहा कि महिला सहकारी संस्थाओं को धन का बेहतर प्रबंधन करने और पेशेवराना ढंग से सहकारी संस्था को चलाने के लिए भी प्रशिक्षित किया जाएगा।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशIMC 2018: जियो का फाइबर नेटवर्क फ‍िक्‍स्‍ड ब्रॉडबैंड में भारत को पहुंचाएगा टॉप3 में, मित्‍तल ने की टैक्‍स कम करने की मांग******mukesh ambani भारत को दुनिया का सबसे बड़ा मोबाइल डाटा उपयोग करने वाला देश बनाने के बाद रिलायंस इंडस्‍ट्रीज लिमिटेड के चेयरमैन मुकेश अंबानी ने गुरुवार को 2018 में कहा कि जियो की फाइबर आधारित ब्रॉडबैंड सर्विस फ‍िक्‍स्‍ड ब्रॉडबैंड के मामले में भारत को दुनिया के टॉप-3 देशों में शामिल करवा सकती है। वर्तमान में भारत की रैंक 135 है। जियो ने घरों और ऑफि‍स के लिए अपनी महात्‍वाकांक्षी अल्‍ट्रा-हाई स्‍पीड फाइबर-आधारित ब्रॉडबैंड सर्विस का परिचालन शुरू कर दिया है। इंडिया मोबाइल कांग्रेस को संबोधित करते हुए अंबानी ने कहा कि पहले दिन से ही, जियोगीगा फाइबर संपूर्ण फ‍िक्‍स्‍ड-मोबाइल कन्‍वर्जेंस उपलब्‍ध कराएगी, जहां भारतीय मोबाइल और फ‍िक्‍स्‍ड ब्रॉडबैंड नेटवर्क 4जी और 5जी के बीच निर्बाध रूप से आ-जा सकेंगे।भारती एयरटेल के चेयरमैन सुनील भारती मित्‍तल ने इंडिया मोबाइल कांग्रेस में कहा कि टेलीकॉम सेक्‍टर को तंबाकू इंडस्‍ट्री की तरह भारी टैक्‍स का सामना करना पड़ रहा है। इस मुद्दे को शीघ्रता से निपटाने की जरूरत है। उन्‍होंने कहा कि नेशनल डिजिटल कम्‍यूनिकेशन पॉलिसी में स्‍पष्‍ट तौर पर कहा गया है कि उसका उद्देश्‍य राजस्‍व को बढ़ाना नहीं है, तब ऐसे में टेलीकॉम ऑपरेटर्स और टेलीकॉम डिपार्टमेंट राजस्‍व बढ़ाने के लिए क्‍यों जिम्‍मेदार होने चाहिए।डाटा सुरक्षा से कोई समझौता नहीं: प्रसादकेंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने कहा कि भारत डाटा सुरक्षा कानून को अंतिम रूप देने की प्रक्रिया में है। उन्होंने कहा कि देश डिजिटलीकरण के पक्ष में है लेकिन डाटा की सुरक्षा से कोई समझौता नहीं किया जाएगा।इंडियन मोबाइल कांग्रेस, 2018 के उद्घाटन सत्र में सूचना एवं प्रौद्योगिकी एवं कानून मंत्री प्रसाद ने कहा कि भारत की मोबाइल की कहानी की गूंज दुनिया भर में फैल रही है। भारत फेसबुक, व्हाट्सएप और ट्विटर जैसे सोशल मीडिया कंपनियों के लिए बड़ा बाजार है। प्रसाद ने कहा कि भारतीय स्थानीय भाषाओं में अधिक-से-अधिक सामग्री चाहते हैं और स्थानीय भाषाओं पर अधिक ध्यान दिए जाने की जरूरत है।उन्होंने इस बात पर बल दिया कि भारत ऐसी प्रौद्योगिकी चाहता है जो आम आदमी से जुड़ी हो।

अजनारा करेगी गाजियाबाद में नई हाउसिंग परियोजना की शुरुआत, होगा 300 करोड़ रुपए का निवेश

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशकिसी के हाथ बंधे, तो किसी की आंखों पर काले रंग का ऑयल... बदायूं में 7 बंदरों की सनसनीखेज हत्या******Highlightsउत्तर प्रदेश के में बंदरों की बेरहमी से हत्या करने का मामला सामने आया है। घटना बदायूं जनपद के थाना उसावां क्षेत्र के गूरा बरेला गांव की है जहां 7 बंदरों की हत्या कर शव गांव के बाहर फेंक दिए गए। मौके पर पहुंची पुलिस एवं वन विभाग के कर्मचारियों ने शवों को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए बरेली भिजवाए हैं। बंदरों के शव पड़े होने का वीडियो वायरल होने पर वन दारोगा की ओर से उसावां थाने में अज्ञात के खिलाफ FIR दर्ज कराई गई है। पुलिस मामले की जांच कर रही है।जिला वन अधिकारी अशोक कुमार ने बताया कि बदायूं के उसामा थाना क्षेत्र के गांव गुड़ा बरेला में सोमवार देर शाम कुछ लोगों ने बंदरों की हत्या कर उनके शव गांव के बाहर फेंक दिए। उन्होंने बताया कि इसका वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ और वायरल वीडियो में बंदरों की संख्या 7 बताई जा रही है। उन्होंने बताया कि किसी के हाथ बंधे हुए हैं तो किसी की आंखों पर काले रंग का ऑयल पड़ा दिख रहा है। इनमें से दो बंदरों का शरीर पूरी तरह से अकड़ा हुआ था, जबकि पांच बंदर सामान्य तरह से पड़े थे।उन्होंने बताया कि बेजुबानों की हत्या की जानकारी पर वन विभाग के रेंजर की ओर से पुलिस को तहरीर दी गई। उन्होंने बताया कि इसके आधार पर पुलिस ने अज्ञात लोगों के खिलाफ वन्य जीव संरक्षण एवं पशु क्रूरता अधिनियम के तहत प्राथमिकी दर्ज कर ली है। वहीं प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार ऐसा लग रहा था जैसे बंदरों को करंट देकर मारा गया हो। इसके बाद उन्हें जलाने के लिए उन पर ऑयल डाला गया हो, जो उनके शरीर पर मिला है।वीडियो में दिख रहा है कि बंदर मरे पड़े हैं और मृत पड़ी एक मादा बंदर के पास उसका अधमरा बच्चा भी बैठा है। जिला वन अधिकारी ने बताया मामले की जांच के लिए पुलिस के साथ-साथ पशुपालन विभाग की टीम भी लगी हुई है। बहुत जल्द ही पोस्टमार्टम रिपोर्ट आने के बाद इस बात का खुलासा हो सकेगा कि बंदरों की मौत किस प्रकार हुई है। थाना प्रभारी उसावां महेंद्र सिंह ने बताया कि वन विभाग की ओर से मामले की तहरीर मिल गई है। मामला दर्ज हो गया है। इस कृत्य में लिप्त लोगों की तलाश जारी है।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशCovid-19 Cases: दिल्ली, महाराष्ट्र सहित कई राज्यों में आए कोरोना के इतने मामले, जानें अन्य राज्यों का हाल******Highlights: दिल्ली में मंगलवार को कोविड-19 से 7 मरीजों की मौत दर्ज की गई जो गत 180 दिनों में इस संक्रामक बीमारी से 24 घंटे के भीतर होने वाली सबसे अधिक मौतें हैं। वहीं, राष्ट्रीय राजधानी में 15.41%संक्रमण दर के साथ इस अवधि में कोरोना के 2,495 नए मामले आए हैं। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार को साझा किए गए आंकड़ों से यह जानकारी मिली।विभाग ने बताया कि इससे पहले 13 फरवरी को राष्ट्रीय राजधानी में सबसे अधिक 13 लोगों की मौत कोविड-19 की वजह से हुई थी और 2,668 नए मामले आए थे। पिछले एक सप्ताह से कोविड-19 के मामलों में हो रही वृद्धि के बीच मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने मंगलवार को कहा कि दिल्ली में संक्रमण के मामले बढ़ रहे हैं ,लेकिन डरने की जरूरत नहीं है क्योंकि इसमें हल्के लक्षण सामने आ रहे हैं। स्वास्थ्य बुलेटिन के मुताबिक, नए मामलों के साथ दिल्ली में महामारी की चपेट में आने वालों की कुल संख्या 19,73,394 हो गई है जबकि कोविड-19 से अबतक यहां 26,343 लोगों की मौत हुई है। स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि दिल्ली में इस समय 8,506 उपचाराधीन मरीज हैं।छत्तीसगढ़ में मंगलवार को कोविड-19 के 255 नए मामले आए जिससे संक्रमितों की संख्या बढ़कर 11,69,787 हो गई। राज्य में स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मंगलवार को 30 लोगों को संक्रमण मुक्त होने के बाद अस्पतालों से छुट्टी दी गई, वहीं 579 लोगों ने होम आइसोलेशन की अवधि पूरी की। राज्य में मंगलवार को दो मरीजों की मृत्यु हुई।अधिकारियों ने बताया कि मंगलवार को संक्रमण के जो नए मामले आए, उनमें रायपुर से 70, दुर्ग से 50, राजनांदगांव से 13, बालोद से पांच, बेमेतरा से पांच, कबीरधाम से तीन, धमतरी से 11, बलौदाबाजार से 12, महासमुंद से सात मामले शामिल आए। शेष मामले अन्य जिलों से हैं। उन्होंने बताया कि छत्तीसगढ़ में अब तक 11,69,787 लोगों के संक्रमित होने की पुष्टि हुई है, जिनमें से 11,52,778 मरीज इलाज के बाद संक्रमण मुक्त हो गए हैं। राज्य में 2926 मरीज उपचाराधीन हैं। राज्य में वायरस से संक्रमित 14,083 लोगों की मौत हुई है।हिमाचल प्रदेश में मंगलवार को कोविड-19 के 360 नए मामले सामने आए हैं जबकि संक्रमण से तीन मरीजों की मृत्यु हुई है। वहीं, केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में कोविड-19 के 626 नए मामले आए हैं। अधिकारियों ने इसकी जानकारी दी। अधिकारियों ने बताया कि पिछले 24 घंटे में 360 नए मामले आने से हिमाचल प्रदेश में संक्रमितों की संख्या बढ़कर 3,05,743 हो गई है। वहीं, संक्रमण से तीन और मरीजों की मृत्यु होने से मृतक संख्या 4,160 हो गई है। उन्होंने बताया कि संक्रमण से जिन तीन मरीजों की मृत्यु हुई है वे कांगड़ा, मंडी और सिरमौर जिलों से थे।राज्य में वर्तमान में 4,338 उपचाराधीन मरीज हैं। पिछले 24 घंटे में 938 लोग संक्रमण से उबरे हैं जिससे ठीक होने वालों की संख्या बढ़कर 2,97,225 हो गई है। केंद्र शासित प्रदेश जम्मू कश्मीर में अधिकारियों ने बताया कि कोविड-19 के 626 नए मामले आए हैं और संक्रमितों की संख्या बढ़कर 4,70,827 हो गई है। उन्होंने बताया कि जम्मू संभाग से 114 मामले आए हैं, वहीं कश्मीर घाटी से 512 मामले आए हैं। अधिकारियों ने बताया कि पिछले 24 घंटे में संक्रमण से किसी की मृत्यु नहीं होने से मृतक संख्या 4,776 पर बनी रही। केंद्र शासित प्रदेश में 5,146 उपचाराधीन मरीज हैं, जबकि ठीक होने वालों की संख्या वबढ़कर 4,60,905 हो गई है।महाराष्ट्र में कोविड-19 के 1,782 नए मामले आए हैं और संक्रमण से सात और मरीजों की मृत्यु हुई है। वहीं, पूर्वोत्तर के राज्य सिक्किम में कोविड-19 के 28 नए मामले आए हैं और संक्रमण से दो लोगों की मृत्यु हुई है। राज्यों के स्वास्थ्य विभाग ने यह जानकारी दी। महाराष्ट्र के स्वास्थ्य विभाग ने बताया कि नए मामलों के साथ राज्य में कुल संक्रमितों की संख्या बढ़कर 80,62,519 हो गई और सात मरीजों की मृत्यु होने से महामारी से अबतक जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 1,48,150 हो गई है। सोमवार को महाराष्ट्र में कोविड-19 के 1,005 नए मामले आए थे और चार मरीजों की मृत्यु हुई थी। मुंबई में कोविड-19 के 479 नए मामले आए, लेकिन संक्रमण से किसी की मृत्यु नहीं हुई। अहमदनगर, सतारा और रत्नागिरि जिलों में एक-एक मरीज की मृत्यु हुई है। पुणे नगर निगम और कोल्हापुर जिला में दो-दो मरीज की मृत्यु हुई है। राज्य में मृत्यु दर 1.83 प्रतिशत है और वर्तमान में 11,889 मरीज उपचाराधीन हैं। 1,854 मरीज स्वस्थ हुए हैं जिससे ठीक होने वाले मरीजों की कुल संख्या बढ़कर 79,02,480 हो गई है। राज्य में संक्रमण मुक्त होने की दर 98.02 प्रतिशत है।पूर्वोत्तर के राज्य सिक्किम में कोविड-19 के 28 नए मामले आने से संक्रमितों की संख्या बढ़कर 42,812 हो गई है, वहीं संक्रमण से दो और लोगों की मृत्यु होने से राज्य में अबतक महामारी से जान गंवाने वालों की संख्या बढ़कर 476 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा मंगलवार को जारी बुलेटिन में यह जानकारी मिली। दैनिक संक्रमण दर 12.61 प्रतिशत रही। राज्य में वर्तमान में 417 उपचाराधीन मरीज हैं। संक्रमण से कुल 41,140 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं जबकि 779 मरीज अन्य राज्य जा चुके हैं। सिक्किम में पिछले 24 घंटे में 222 नमूनों की जांच हुई है और अब तक कुल 3,66,636 नमूनों की कोविड-19 संबंधी जांच हुई है।अरुणाचल प्रदेश में मंगलवार को कोविड-19 के 41 नए मामले दर्ज किए गए, जिससे राज्य में कोरोना वायरस से अब तक संक्रमित होने वालों की कुल संख्या बढ़कर 66,246 हो गई है। स्वास्थ्य विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने यह जानकारी दी। राज्य निगरानी अधिकारी (एसएसओ) डॉ.लोबसांग जाम्पा ने कहा कि राज्य में कोविड-19 के कारण जान गंवाने वालों की कुल संख्या 296 पर स्थिर है और पिछले 24 घंटों के दौरान महामारी के कारण किसी अन्य कोविड-19 मरीज की मौत नहीं हुई।अधिकारी ने कहा कि नये मामलों में से नामसाई में 9, लेपरदा में 6, कैपिटल कॉम्प्लेक्स क्षेत्र में 5, ऊपरी सियांग में 4 और पश्चिम कामेंग जिले में 3 मामले दर्ज किए गए। अरुणाचल प्रदेश में फिलहाल 295 कोविड-19 मरीज उपचाराधीन हैं, जबकि 65,655 लोग अब तक इस बीमारी से उबर चुके हैं, जिसमें मंगलवार को ठीक हुए 68 लोग शामिल हैं। डॉ. जाम्पा ने कहा कि राज्य में अब तक कोरोना वायरस के 12,85,689 नमूनों की जांच की गई है, जिसमें सोमवार को जांच किये गये 323 नमूने शामिल हैं।

अजनारा करेगी गाजियाबाद में नई हाउसिंग परियोजना की शुरुआत, होगा 300 करोड़ रुपए का निवेश

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशवित्त वर्ष के पहले 6 महीने में राजकोषीय घाटा बजट के सालाना अनुमान से ऊपर निकला******8 नई दिल्ली। केन्द्र का राजकोषीय घाटा पहली छमाही में ही वार्षिक अनुमान से ऊपर निकल गया है। राजस्व प्राप्ति कम रहने से सितंबर में समाप्त छह माह में राजकोषीय घाटा बजट अनुमान के 114.8 प्रतिशत तक पहुंच गया। कोरोना वायरस महामारी और लॉकडाउन से पहली तिमाही में आर्थिक गतिविधियां बुरी तरह प्रभावित हुईं। यही वजह है कि पहली छमाही में राजस्व प्राप्ति भी प्रभावित हुई और राजकोषीय घाटा 9.14 लाख करोड़ रुपये तक पहुंच गया। बजट में 2020-21 में राजकोषीय घाटे के 7.96 लाख करोड़ रुपये रहने का अनुमान लगाया गया है।सरकार के महा लेखा नियंत्रक द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक चालू वित्त वर्ष 2020- 21 की अप्रैल से सितंबर अवधि के दौरान केन्द्र सरकार का राजकोषीय घाटा 9,13,993 करोड़ रुपये रहा है। इससे पिछले वित्त वर्ष में इसी अवधि में राजकोषीय घाटा बजट अनुमान का 92.6 प्रतिशत पर रहा था जबकि इस साल यह 114.8 प्रतिशत पर पहुंच गया। सरकार को मिलने वाले कुल राजस्व और उसके कुल खर्च के बीच के अंतर को राजकोषीय घाटा कहा जाता है। वास्तव में इस साल जुलाई में ही राजकोषीय घाटा वार्षिक अनुमान के बराबर पहुंच गया था। इस वित्त वर्ष में सितंबर तक सरकार को कुल 4,58,508 करोड़ रुपये का राजस्व प्राप्त हुआ। यह राशि अनुमानित वार्षिक राजस्व का 25.18 प्रतिशत रही है। पिछले वित्त वर्ष में सितंबर तक यह प्राप्ति वार्षिक अनुमान का 40.2 प्रतिशत रही थी।सीजीए के आंकड़ों के मुताबिक सितंबर तक प्राप्त राजस्व में केन्द्र को शुद्ध रूप से 4,58,508 करोड़ रुपये की प्राप्ति हुई। इसमें से 92,274 करोड़ रुपये गैर-कर राजस्व और 14,635 करोड़ रुपये गैर- कर्ज पूंजी प्राप्ति रही। वित्त मंत्रालय द्वारा जारी विज्ञप्ति में सीजीए के आंकड़ों को दिया गया है। इसमें कहा गया है कि सितंबर तक केन्द्रीय कर में राज्यों को उनके हिस्से के रूप में 2,59,941 करोड़ रुपये जारी किये गये। यह राशि पिछले साल के मुकाबले 51,277 करोड़ रुपये कम रही है। सीजीए आंकड़ों के मुताबिक इस दौरान सरकार का कुल व्यय 14,79,410 करोड़ रुपये रहा। यह राशि बजट अनुमान का 48.63 प्रतिशत रही। इसमें से 13,13,574 करोड़ रुपये राजस्व खाते में खर्च किये गये जबकि 1,65,836 करोड़ रुपये पूंजी खाते में खर्च किये गये।

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशजनवरी में 2.59 रुपये प्रति लीटर महंगा हुआ पेट्रोल, डीजल में हुई 2.61 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी******Fuel prices rise again, in January petrol prices were hiked Rs 2.59 a litre and diesel by Rs 2.61 a litre27 जनवरी यानी बुधवार को दिल्‍ली में पेट्रोल का रिटेल प्राइस एक नई ऊंचाई पर पहुंच गया। ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने बुधवार को पेट्रोल की कीमत में 25 पैसे प्रति लीटर और डीजल की कीमत में भी 25 पैसे प्रति लीटर की बढ़ोतरी कर दी है। इस नई मूल्‍यवृद्धि के बाद दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत बढ़कर 86.30 रुपये प्रति लीटर हो गया। इसी प्रकार डीजल की नई कीमत 76.48 रुपये प्रति लीटर हो गई। इससे पहले मंगलवार को में 35-35 पैसे प्रति लीटर की बढोतरी हुई थी। मंगलवार को दिल्‍ली में पेट्रोल की कीमत 86.05 रुपये प्रति लीटर और मुंबई में 92.62 रुपये प्रति लीटर थी। मुंबई में डीजल की कीमत ने रिकॉर्ड ऊंचाई छुई है और यहां भाव बढ़कर 83.30 रुपये प्रति लीटर हो गई है, जबकि यहां एक लीटर पेट्रोल की नई कीमत 92.86 रुपये प्रति लीटर है।जनवरी माह में दिल्‍ली में अबतक पेट्रोल की कीमत में 2.59 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 2.61 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। दूसरी ओर मुंबई में एक जनवरी से अबतक पेट्रोल की कीमत में 2.52 रुपये प्रति लीटर और डीजल की कीमत में 2.79 रुपये प्रति लीटर की वृद्धि हो चुकी है। 29 दिनों के लंबे विराम के बाद ऑयल मार्केटिंग कंपनियों ने 6 जनवरी से ईंधन की कीमतों में दोबारा दैनिक समीक्षा शुरू की है।पेट्रोल-डीजल की लगातार बढ़ती कीमतों के बीच सरकार पर एक्‍साइज ड्यूटी में कटौती करने के लिए निरंतर दबाव बढ़ रहा है लेकिन अभी तक सरकार ने इस पर कोई निर्णय नहीं लिया है। चालू वित्‍त वर्ष के दौरान पेट्रोल और डीजल पर स्‍पेशल एडिशनल एक्‍साइज ड्यूटी और रोड एवं इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर सेस के रूप में टैक्‍स में क्रमश: 13 रुपये और 16 रुपये प्रति लीटर की बढ़ोतरी हुई है। , स्‍थानीय बिक्री कर या वैट के आधार पर अलग-अलग राज्‍यों में भिन्‍न-भि‍न्‍न है। वर्तमान में देश में दोनों ईंधन की कीमत रिकॉर्ड ऊंचाई पर है। तेल मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने पिछले हफ्ते कहा था कि साऊदी अरब द्वारा कच्‍चे तेल के उत्‍पादन में कटौती करने से तेल की कीमतों में बढ़ोतरी हो रही है ल‍ेकिन एक्‍साइज ड्यूटी में कटौती पर उन्‍होंने कुछ नहीं कहा। कच्‍चे तेल के सबसे बड़े उत्‍पादक देश साऊदी अरब ने फरवरी और मार्च में कच्‍चे तेल के उत्‍पादन में 10 लाख बैरल प्रति दिन की कटौती करने की घोषणा की है।इससे पहले 4 अक्‍टूबर, 2018 को ईंधन की कीमतों ने रिकॉर्ड ऊंचाई को छुआ था। उस समय सरकार ने मुद्रास्‍फीति दबाव को कम करने और उपभोक्‍ता विश्‍वास को बढ़ाने के लिए पेट्रोल व डीजल पर एक्‍साइज ड्यूटी में 1.5 रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी। इसके साथ ही सार्वजनिक तेल विपणन कंपनियों ने भी एक रुपये प्रति लीटर की कटौती की थी, जिसे उन्‍होंने बाद में वापस ले लिया।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशBollywood Wrap:'अनुपमा' ने धोखेबाज बेटे का नहीं दिया साथ, आलिया भट्ट का जल्द होगा बेबी शावर, जानिए हर खबर******क्या आप भी हैं बी-टाउन लवर्स और चाहते हैं बॉलीवुड के साथ-साथ टॉलीवुड OTT की खबरें सुपरफास्ट। क्या आपको भी हमेशा अपने स्टार्स का अपडेट जानने की रहती है बेताबी। तो चालिए जानते हैं आज मनोरंजन जगत में क्या नया है? कौन से सेलेब्स आज ट्रेंड में हैं? सभी बड़ी और ट्रेंडिंग खबरें हम आपको बताने जा रहे हैं। आइए जानते हैं एंटरटेनमेंट जगत से आज दिन भर की 5 बड़ी खबरें...भारत के सितारों को दुनियाभर में बेशुमार प्यार मिलता है। फिर चाहे वो पाकिस्तान ही क्यों न हो। वहां की आवाम बॉलीवुड फिल्मों को देखना काफी पसंद करती है। उसी तरह पाकिस्तान के ड्रामें भी भारत में खूब पसंद किए जाते हैं। वहां के कई सीरियल्स भारत में सुपरहिट साबित हुए हैं। इसी बीच पाकिस्तान की अभिनेत्री मछलियों को दाना डालते वक्त रेशम ने प्लास्टिक भी पानी में डाल दिया। जहां ब्रेड के टुकड़े को वो समंदर में गिराती दिखीं। वहीं, प्लास्टिक गिरा कर वो लोगों के निशाने पर आ गईं। ऐसे में एक बात तो साफ है कि एक्ट्रेस नेकी करने के चक्कर में एक बड़ी भूल कर बैठी।रूपाली गांगुली, गौरव खन्ना और सुधांशु पांडे स्टारर टीवी शो 'अनुपमा' में हर दिन नए-नए ट्विस्ट देखने को मिलता है। यही वजह है कि दो साल से यह शो TRP का बादशाह बना हुआ है। इन दिनों इस शो में मां-बेटे के बीच तकरार चल रही है और चले भी क्यों न तोषू ने किया भी ऐसा काम है। तोषू के एक्स्ट्रा मैरिटल अफेयर की खबर सुनते ही अनुपमा सदमे में चली गई है।तोषू अपनी गलती मानने की जगह अनुपमा पर गुस्सा निकालते दिखता है।बच्चे के नामकरण फंक्शन के बीच तोषू, किंजल से झूठे वादे करता है और कहता है कि वह बेस्ट पापा और बेस्ट पति बनकर दिखाएगा। तोषू वादा करता है कि वह जान दे सकता है लेकिन कभी भी किंजल को धोखा नहीं दे सकता है। धोखेबाज बेटे की ऐसी हरकत देख अनुपमा खुद को रोक नहीं पाती और गुस्से में बोलती है "जरा तो शर्म कर परितोष।" बॉलीवुड के बेस्ट कपल आलिया भट्ट और रणबीर कपूर जल्द ही माता-पिता बनने वाले हैं। प्रेग्नेंसी में आलिया भट्ट अपना बेबी बंप को फ्लॉन्ट करते नजर आती हैं। वहीं अब कुछ महीनों बाद उनके घर नन्हे से बच्चे की किलकारी गूंजने वाली है। जानकारी के अनुसार जल्द ही आलिया की दोनों मां मतलब सोनी राजदान और सास नीतू कपूर ने कुछ नया प्लान किया है। बता दें नीतू कपूर (Neetu Kapoor) और सोनी राजदान आलिया के बेबी शावर का प्लान कर रही हैं। बेबी शावर प्रोग्राम की खास बात ये है कि इस बेबी शावर में सिर्फ लेडीज ही शामिल रहेंगी।कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव 35 दिनों से जिंदगी के लिए जंग लड़ रहे हैं। कॉमेडियन राजू श्रीवास्तव पिछले 35 दिनों से दिल्ली के एम्स अस्पताल में भर्ती हैं। लगातार राजू श्रीवास्तव के फैंस उनके लिए दुआ कर रहे हैं। वहीं अब भी राजू वेंटिलेटर सपोर्ट पर हैं। उनकी हालत नाजुक बताई जा रही है। राजू श्रीवास्तव को कब तब होश आएगा। इस बारे में एम्स के डॉक्टरों ने अभी तक कोई जवाब नहीं दिया है।कॉमेडियन की स्थिती पर डॉक्टर्स ने कहा है कि, 'अब कुछ नहीं कहा जा सकता।' डॉक्टर्स का ऐसा बयान कॉमेडियन के प्रशंसकों को और भी डरा रहा है। देखते हैं नया दिन राजू श्रीवास्तव के स्वास्थय में क्या परिवर्तन लाता है। लगातार राजू के फैंस डॉक्टरों को आधिकारिक बयान जारी करने की अपील कर रहे हैं, लेकिन डॉक्टर्स इस पर अभी कोई भी बयान नहीं दे रहे हैं। एक्टर अक्षय कुमार ने हाल ही में अपने हेयर स्टाइलिस्ट मिलन जाधव को खो दिया, जिन्होंने उनके साथ 15 साल तक काम किया है। जहां अभिनेता ने मौत पर शोक व्यक्त करते हुए एक पोस्ट अपलोड किया, वहीं अब यह बात सामने आई है कि अक्षय ने टीम के दिवंगत सदस्य के परिवार का समर्थन करने का फैसला किया है। बता दें मिलन अक्की के काफी करीब थे। वह हाल ही में बीमार पड़ गए और जब डॉक्टरों ने सभी परीक्षण किए, तो उन्हें पता चला कि उन्हें चौथे चरण का कैंसर था।

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशपहली छमाही में IPO से कंपनियों ने जुटाए 23,670 करोड़ रुपए, मई में QIP से मिले 1,000 करोड़******fund raisedचालू वर्ष की पहली छमाही में 18 कंपनियों ने (आईपीओ) से 23,670 करोड़ रुपए जुटाए हैं। पिछले साल की इसी अवधि के मुकाबले यह लगभग दोगुना है।वर्ष 2018 की दूसरी छमाही में भी यही रुख रहने की उम्मीद है, क्योंकि एचडीएफसी म्यूचुअल फंड, लोढ़ा डेवलपर्स और रेल विकास निगम समेत करीब 50 कंपनियां आने वाले महीनों में अपना आईपीओ पेश कर सकती हैं। भारतीय प्रतिभूति एवं विनिमय बोर्ड (सेबी) के नवीनतम आंकड़ों के अनुसार करीब 28 कंपनियों को इस संबंध में सेबी से अनुमति मिलने का इंतजार है, जबकि 18 कंपनियों को अपना आईपीओ पेश करने के लिए सेबी से अनुमति मिल चुकी है।शेयर बाजारों के आंकड़ों के अनुसार जनवरी-जून 2018 के बीच 18 कंपनियों ने कुल 23,670 करोड़ रुपए जुटाए, जो पिछले साल की इसी अवधि में 13 कंपनियों द्वारा जुटाए गए 12,000 करोड़ रुपए से अधिक है।वर्ष 2016 की छमाही में 11 कंपनियों ने आईपीओ से 6,962 करोड़ रुपए जुटाए थे।मई में क्यूआईपी से जुटाए 1,000 करोड़ रुपएभारतीय कंपनियों ने इस साल मई में पात्र संस्थागत नियोजन (क्यूआईपी) से 1,000 करोड़ रुपए से थोड़ी अधिक राशि जुटाई। हालांकि यह अप्रैल में जुटाई गई 1,862 करोड़ रुपए की राशि से 45.86 प्रतिशत कम है। मई में कंपनियों ने क्यूआईपी से 1,008 करोड़ रुपए जुटाए।कंपनियों ने यह राशि कारोबारी विस्तार, ऋण के पुनर्वित्त, कार्यशील पूंजी की जरूरत और अन्य आम कॉरपोरेट जरूतों के लिए जुटाए हैं।मई में इस साल पांच कंपनियों के निर्गम आए जबकि पिछले साल मई में तीन निर्गम आए थे।वित्त वर्ष 2017-18 में कंपनियों ने क्यूआईपी के जरिए 53 निर्गमों से 67,257 करोड़ रुपए जुटाए थे।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशTwo Wheelers: टू व्हीलर इंडस्ट्री के अच्छ दिन अभी दूर, 2018-19 जैसी बिक्री तक पहुंचने में लगेंगे 5 साल******कोरोना और फिर चिप संकट, देश की दोपहिया वाहन इंडस्ट्री अभी तक इन दो झटकों से उबर नहीं पाई है। हालांकि 2022 में सेल्स कुछ बढ़ती नजर आ रही है, लेकिन इसके बाद भी जानकारों का मानना है कि अभी भी 2018-19 के उच्चस्तर पर पहुंचने में करीब पांच वर्ष लग सकते है। बता दें कि वित्त वर्ष 2018-19 में देश में दोपहिया वाहनों की बिक्री 2,44,42,366 इकाई रही थी। जो अब तक का सर्वोच्च स्तर है।होंडा मोटरसाइकल एंड स्कूटर इंडिया (एचएमएसआई) के अध्यक्ष, प्रबंध निदेशक एवं मुख्य कार्यपालक अधिकारी (सीईओ) अत्सुशी ओगाता ने कहा कि ग्रामीण परिवारों की आय में वृद्धि नहीं हुई है जबकि पिछले कुछ वर्षों में दोपहिया वाहनों की कीमतें बढ़ी हैं जिससे बिक्री में गिरावट आई है।ओगाता ने कहा कि इस साल अप्रैल के बाद स्कूलों और विशेष कर सूचना प्रौद्योगिकी कंपनियों के कार्यालय खुलने के साथ शहरी बाजारों में कुछ सकारात्मक गति आई है। उन्होंने कहा ग्रामीण बाजारों में दोपहिया वाहनों की बिक्री में सुधार अभी तक उच्चस्तर पर नहीं पंहुचा है।वित्त वर्ष 2018-19 में देश में दोपहिया वाहनों की बिक्री 2,44,42,366 इकाई रही थी। यह 2021-22 में घटकर 1,34,66,412 इकाई रह गई। वहीं, एचएमएसआई ने 2018-19 में सबसे अधिक 61,23,877 इकाइयों की बिक्री की थी। ओगाता ने कहा, ‘‘उम्मीद है कि अगले त्योहारी सीजन तक दोपहिया वाहनों की बिक्री और सुधरेगी और यह पिछले तीन साल के मुकाबले बेहतर होगी।’’होंडा ने इस सप्ताह की शुरुआत में कहा था कि वह इस साल के अंत तक भारत में इलेक्ट्रिक रिक्शा के लिए बैटरी अदला-बदली सेवा शुरू करने की योजना बना रही है। कंपनी वर्ष 2050 तक अपने सभी उत्पादों और कॉरपोरेट गतिविधियों के लिए कार्बन उत्सर्जन को शुद्ध रूप से शून्य करने की रणनीति के तहत 2023 तक भारत में ‘फ्लेक्स ईंधन’ वाली बाइक भी पेश करेगी।‘ फ्लेक्स ईंधन वाले वाहन पूरी तरह से पेट्रोल या बॉयो एथनॉल या दोनों के मिश्रण वाले ईंधन से चलने में सक्षम होते हैं।

अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशजमीन से 30,000 फीट ऊपर धोनी, रैना, ब्रावो, वॉटसन समेत चेन्नई सुपर किंग्स ने कुछ इस तरह मनाया जश्न******भले ही खत्म हो गया हो लेकिन की टीम और फैंस के सिर से अब तक जश्न का खुमार उतरा नहीं है। टीम जमीन से लेकर आसमान तक जीत का जश्न मना रही है। हाल ही में टीम के खिलाड़ियों ने जमीन से 30,000 फीट की ऊंचाई पर जीत का जशन मनाया। हो गए ना हैरान! अब आप सोच रहे होंगे कि भला कोई जमीन से 30,000 फीट की ऊंचाई पर जश्न कैसे मना सकता है। तो हम आपको बता दें कि चेन्नई की टीम ने प्लेन में जीत का जश्न मनाया। इस दौरान खिलाड़ियों ने प्लेनकर्मियों के साथ भी अपनी जीत की खुशी साझा की। कप्तान से लेकर , , समेत हर खिलाड़ी प्लेन में जीत की खुशी मना रहा था।प्लेनकर्मी भी चेन्नई के खिलाड़ियों के साथ उनकी खुशी में शामिल हो रहे थे। इस दौरान प्लेनकर्मियों ने वॉटसन, जडेजा के साथ सेल्फी भी ली। वहीं, महिला प्लेनकर्मियों ने आईपीएल ट्रॉफी को हाथ में उठाकर फोटो खिंचाई। प्लेन में मौजूद हर अधिकारी धोनी और बाकी खिलाड़ियों के साथ जीत का जश्न मनाना चाहता था और हर पल को कैमरे में कैद करने की पूरी कोशिश कर रहा था। साफ देखा जा सकता था कि अपने चहेते खिलाड़ियों को अपने साथ जीत का जश्न मनाते देख प्लेनकर्मियों की खुशी का कोई ठिकाना नहीं था।आपको बता दें कि 2 साल के बाद आईपीएल में वापसी करने वाली चेन्नई की टीम ने बेहतरीन प्रदर्शन किया और तीसरी बार आईपीएल विजेता बनने में कामयाबी पाई। चेन्नई ने फाइनल मुकाबले में सनराइजर्स हैदराबाद को हराया और खिताब जीता। फाइनल में शेन वॉटसन ने धमाकेदार पारी खेली थी और शानदार सतक जड़ा था। वॉटसन की पारी की बदौलत चेन्नई ने आसानी से हैदराबाद को हराकर ट्रॉफी पर कब्जा जमा लिया था।अजनाराकरेगीगाजियाबादमेंनईहाउसिंगपरियोजनाकीशुरुआतहोगा300करोड़रुपएकानिवेशघाटे में डूबी अंबानी की ये कंपनी, रिलायंस होम फाइनेंस का तिमाही घाटा 340 करोड़ रुपये पर पहुंचा******Relianceअनिल अंबानी के नेतृत्व वाले रिलायंस समूह की कंपनी रिलायंस होम फाइनेंस का दिसंबर तिमाही का शुद्ध घाटा 339.55 करोड़ पर पहुंच गया। पिछले वित्त वर्ष की तीसरी तिमाही में इसने 73.52 करोड़ रुपये का घाटा दिखाया था।पढ़ें-कंपनी द्वारा शुक्रवार को बाजार को दी गयी जानकारी के अनुसार आलोच्य तिमाही में उसकी कुल आय गिरकर 174.66 करोड़ रुपये रही। एक साल पहले इसी दौरान आय 442.03 करोड़ रुपये थी। इसी दौरान खर्च एक साल पहले के 549.03 करोड़ रुपये की तुलना में 688.97 करोड़ रुपये रहा।पढ़ें-कंपनी के ऋणदाताओं ने अंतर-करदाता समझौते (आईसीए) को तीन माह के लिए और बढ़ा दिया था। कंपनी दिवाला संहिता के तहत निपटान प्रक्रिया में है। इसके लिए छह कंपनियों की बोलियां प्राप्त हुई हैं।पढ़ें-पढ़ें-पढ़ें-पढ़ें-

नवीनतम उत्तर (2)
2022-09-30 02:28
उद्धरण 1 इमारत
आज से घर खरीदने वालों को RERA ने बनाया किंग, अब नहीं चलेगी बिल्‍डर की मनमानी****** घर-मकान खरीदने वालों के हितों की सुरक्षा के लिए बनाया गया कानून RERA आज से प्रभावी हो गया है। अभी तक 13 राज्‍य और केंद्र शासित प्रदेश इसके नियमों को अधिसूचित कर चुके हैं। इस कानून से रियल एस्‍टेट सेक्‍टर में न केवल डेवलपर्स की जवाबदेही बढ़ेगी बल्कि पारदर्शिता भी आएगी। आइए जानते हैं कि RERA में घरों के खरीदारों के लिए ऐसी कौन सी व्‍यवस्‍था की गई है और बिल्‍डरों पर किस तरह शिकंजा कसा गया है।RERA के तहत राज्‍यों द्वारा बनाए गए रियल एस्‍टेट रेगुलेटरी अथॉरिटी का काम बिल्‍डरों के खिलाफ आने वाली किसी भी शिकायत का निवारण करना है। 90 दिन के भीतर सभी डेवलपरों को अथॉरिटी में अपना रजिस्‍ट्रेशन कराना होगा। 1 मई से डेवलपर्स प्रोजेक्‍ट्स की प्री-लॉन्चिंग नहीं कर पाएंगे और प्रोजेक्‍ट लांच करने से पहले उन्‍हें अथॉरिटी से अनुमति और NOC लेनी होगी।2017 में रियल एस्‍टेट सेक्‍टर में होगा 7 अरब डॉलर का निवेश, तेजी से सुधर रहा है माहौलडेवलपर्स को घर खरीदने वालों से मिली रकम की 70 फीसदी राशि एक अलग अकाउंट में रखनी होगी जिससे प्रोजेक्ट की कंस्ट्रक्शन कॉस्ट निकलती रहे। इससे बिल्डर्स खरीदारों से मिले पैसे किसी और प्रोजेक्ट में नहीं लगा पाएंगे। इससे कंस्ट्रक्शन टाइम पर पूरा हो पाएगा।RERA के तहत सभी डेवलपर्स के लिए प्रोजेक्ट से जुड़ी सभी जानकारियां जैसे प्रोजेक्ट प्लान, ले-आउट, सरकारी अप्रूवल्स, जमीन का स्टेटस, प्रोजेक्ट खत्म होने का शेड्यूल भी अथॉरिटी को उपलब्ध कराना होगा।RERA के तहत सुपर बिल्ट-अप एरिया के आधार पर फ्लैट बेचने का तरीका बदलेगा। नए कानून में कारपेट एरिया को अलग से निर्धारित किया गया है। 1 मई से RERA लागू होने के बाद प्रोजेक्ट पूरा होने में देर के लिए बिल्डर को इसका खामियाजा भुगतना पड़ेगा। खरीदारों द्वारा दी गई अतिरिक्त EMI पर लगने वाला डेवलपर्स को वापस खरीदारों को चुकाना होगा।टाटा ट्रस्ट की मदद से चार राज्यों में उभर रहे हैं लखपति किसान, 450 गांवों में पहलRERA के ट्रिब्यूनल के आदेश न मानने पर डेवलपर्स को 3 साल की सजा हो सकती है। इसके अलावा, अगर प्रोजेक्ट में कोई गलती होती है तो खरीदार पजेशन के 1 साल के भीतर डिवेलपर को लिखित में शिकायत दे आफ्टर सेल सर्विसेज की मांग कर सकता है।
2022-09-30 02:12
उद्धरण 2 इमारत
Maruti Suzuki की Vitara Brezza ने 4 साल में पार किया 5 लाख बिक्री का आंकड़ा, Auto Expo 2016 में दिखाया गया था मॉडल******Maruti Suzuki Vitara Brezza crosses 5 lakh sales milestoneमारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) ने सोमवार को बताया कि उसकी कॉम्‍पैक्‍ट एसयूवी विटारा ब्रेजा ने अपने लॉन्‍च के चार साल के भीतर ही 5 लाख बिक्री का आंकड़ा पार कर लिया है। कंपनी ने विटारा ब्रेजा के मॉडल को ऑटो एक्‍सपो 2016 में प्रदर्शित किया था। मारुति सुजुकी इंडिया (एमएसआई) के कार्यकारी निदेशक (मार्केटिंग एवं सेल्‍स) शशांक श्रीवास्‍तव ने एक बयान में कहा कि मारुति सुजुकी में टीम द्वारा सुजुकी कोर टेक्‍नोलॉजी का उपयोग कर डिजाइन और डेवलप की गई ने भारतीय उपभोक्‍ताओं के दिलों में अपने लिए एक खास जगह बनाई है। उन्‍होंने आगे कहा कि केवल 47 माह में 5 लाख बिक्री का आंकड़ा हासिल करना इस बात का प्रमाण है कि उपभोक्‍ताओं की रुचि कॉम्‍पैक्‍ट एसयूवी सेगमेंट में निरंतर बढ़ रही है।मारुति सुजुकी इंडिया ने दावा किया है कि विटारा ब्रेजा का पांच लाख बिक्री का आंकड़ा हासिल करना कॉम्‍पैक्‍ट एसयूवी सेगमेंट में सबसे तेज है।
2022-09-30 01:13
उद्धरण 3 इमारत
Arvind Kejriwal On Rahul Gandhi: 'राहुल गांधी ही कांग्रेस को कमजोर करने के लिए काफी हैं', जानें दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने और क्या कहा******Highlightsदिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि राहुल गांधी इसे कमजोर करने के लिए काफी हैं। केजरीवाल ने इन आरोपों को खारिज किया कि आम आदमी पार्टी (आप) भाजपा की ‘बी-टीम’ के रूप में काम कर रही है और कांग्रेस को कमजोर कर रही है। ‘आप’ के राष्ट्रीय संयोजक केजरीवाल ने कहा, 'क्या मुझे कांग्रेस को कमजोर करने की जरूरत है? क्या राहुल गांधी पर्याप्त नहीं हैं।'केजरीवाल इस संबंध में उनकी प्रतिक्रिया पूछी गई थी कि राजनीतिक प्रतिद्वंद्वी इस तरह के आरोप लगा रहे हैं कि ‘आप’ कांग्रेस को कमजोर कर रही है और भाजपा की ‘बी-टीम’ के रूप में काम कर रही है। कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा’ पर केजरीवाल ने कहा, ‘‘उन्हें करने दीजिए। सभी को अच्छा काम करना चाहिए। कांग्रेस को शुभकामनाएं।’’यह पूछे जाने पर कि अगर ‘आप’ केंद्र में सत्ता में आई और वह प्रधानमंत्री बने तो क्या ऐसी चीजें होंगी, केजरीवाल ने कहा, ‘‘लोकतंत्र में लोग निर्णय लेते हैं। जब सभी एक साथ आएंगे, तो वे फैसला करेंगे।’’ केजरीवाल ने कहा कि यदि छात्रों को मुफ्त और गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दी जाए, नागरिकों को मुफ्त और अच्छी स्वास्थ्य सेवाएं उपलब्ध कराई जाएं और देश के हर युवा को नौकरी दी जाए तो भारत को पांच साल के भीतर दुनिया में नंबर एक बनाया जा सकता है।केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने भी साधा था कांग्रेस पर निशानाइससे पहले कांग्रेस की ‘भारत जोड़ो यात्रा‘ पर केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने भी निशाना साधा था। उन्होंने गुरुवार को इसे ‘भारत तोड़ो यात्रा‘ बताया था। उन्होंने यह दावा भी किया कि इस ‘बेदम‘ यात्रा से गांधी को पीएम नरेंद्र मोदी के सामने सियासी कामयाबी नहीं मिल सकती। उन्होंने राहुल गांधी की भारत जोड़ो यात्रा पर तंज किया। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी की यात्रा में दम नहीं और इस यात्रा से हमें कोई गम नहीं‘।राहुल गांधी की यह भारत जोड़ो नहीं, भारत तोड़ो यात्रा हैः आठवलेआठवले ने अपने चिर-परिचित अंदाज में तुक मिलाते हुए इंदौर में संवाददाताओं से कहा था, ‘गांधी की यात्रा भारत जोड़ो यात्रा नहीं, बल्कि भारत तोड़ो यात्रा है। इस यात्रा में कोई दम नहीं और इस यात्रा को लेकर हमें कोई गम नहीं। केंद्र में सामाजिक न्याय और अधिकारिता राज्य मंत्री आठवले ने कहा कि कई धर्मों, जातियों और भाषाओं वाले भारत को डॉ. भीमराव आम्बेडकर के बनाए संविधान ने काफी पहले जोड़ दिया था और अब प्रधानमंत्री मोदी ‘सबका साथ सबका विकास और सबका विश्वास' की भावना से देश जोड़ने के काम को आगे बढ़ा रहे हैं।उन्होंने यह भी कहा कि जब तक मोदी प्रधानमंत्री के रूप में देश की बागडोर संभाल रहे हैं, तब तक गांधी को राजनीतिक सफलता मिलने वाली नहीं है। भले ही वह कितनी भी यात्राएं निकालते रहें। गोवा के पूर्व मुख्यमंत्री दिगंबर कामत समेत कांग्रेस के आठ विधायकों के सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ‘भाजपा‘ में शामिल होने पर केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘ऐसा इसलिए हुआ क्योंकि कांग्रेस में राहुल गांधी के नेतृत्व को पसंद नहीं किया जा रहा है। इस दल में अब कुछ भी नहीं बचा है। गुलाम नबी आजाद कांग्रेस छोड़ चुके हैं और कई अन्य वरिष्ठ नेता पार्टी नेतृत्व से नाराज हैं।'
वापसी