नई पोस्ट करें

Wagle Ki Duniya टीवी शो के 10 मेंबर्स हुए कोरोना पॉजिटिव, रोकी गई शूटिंग

2022-09-30 01:13:08 755

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगचालू वित्त वर्ष में आर्थिक वृद्धि दर लुढ़क कर 1.1 % रहने की आशका: SBI******SBI report on Economyनई दिल्ली। देश की जीडीपी वृद्धि दर कोरोना वायरस महामारी के प्रभाव के कारण चालू वित्त वर्ष में लुढ़क कर 1.1 प्रतिशत तक सीमित रह सकती है। भारतीय स्टैट बैंक की एक शोध रिपोर्ट में यह अनुमान दिया गया है। वित्त वर्ष 2019-20 में आर्थिक वृद्धि घट कर 4.1 प्रतिशत रहने का अनुमान है। जबकि कई एजेंसियों ने महामारी से पहले इसके 5 प्रतिशत रहने की संभावना जतायी थी।कोरोना वायरस महामारी से दुनियाभर में 20 लाख से अधिक लोग संक्रमित हुए हैं और 1.3 लाख लोगों की मौत हुई है। कोरोना वायरस संक्रमण की रोकथाम के लिये सरकार ने ‘लॉकडाउन’ की मियाद 3 मई तक बढ़ा दी है। हालांकि इस दौरान 20 अप्रैल से कुछ क्षेत्रों को थोड़ी राहत दी जाएगी। इससे पहले 25 मार्च से 21 दिन के बंद की घोषणा की गयी थी।एसबीआई की इकोरैप रिपोर्ट के अनुसार बंद की अवधि बढ़ाये जाने से 12.1 लाख करोड़ रुपये का नुकसान होगा। रिपोर्ट में कहा गया है अब जबकि बंद की अवधि तीन मई तक के लिये बढ़ा दी गयी है और साथ ही सरकार ने 20 अप्रैल से कुछ छूट दी है, हमारा अनुमान है कि वित्त वर्ष 2020-21 में करीब 12.1 लाख करोड़ रुपये या बाजार मूल्य पर 6 प्रतिशत जीवीए का नुकसान होगा।रिपोर्ट में कहा गया है कि देशव्यापी बंद का विभिन्न वृहत आथिक मानकों पर व्यापक प्रभाव पड़ेगा। वर्ष 2017-18 के पीएलएफएस यानि निश्चित अवधि पर होने वाला श्रम बल सर्वेक्षण का हवाला देते हुए रिपोर्ट में कहा गया है कि स्व-रोजगार, नियमित और ठेके पर करीब 37.3 करोड़ कामगार लगे हैं। इसमें स्व-रोजगार वालों की हिस्सेदारी 52 % ठेका कर्मियों की 25 प्रतिशत और शेष नियमित मेहनताना पाने वाले लोग हैं। रिपोर्ट के अनुसार, इन 37.3 करोड़ कामगारों को बंद के कारण प्रतिदिन करीब 10,000 करोड़ रुपये की आय के नुकसान का अनुमान है। अगर पूरी बंद अवधि को देखा जाए तो यह 4.05 लाख करोड़ रुपये बैठता है। ठेका कामगारों के लिये आय नुकसान कम-से-कम एक लाख करोड़ रुपये बैठता है। अत: कोई भी वित्तीय पैकेज कम-से-कम इस 4 लाख करोड़ रुपये की आय के नुकसान की भरपाई को ध्यान में रखकर होना चाहिए।

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगBhabiji Ghar Par Hain: क्या फिर बदलेंगी 'गोरी मेम'? नेहा पेंडसे की जगह लेंगी 'गंदी बात' की ये अभिनेत्री?******Highlightsमशहूर टीवी सीरियल 'भाभीजी घर पर हैं' में 'अनीता भाभी' का किरदार निभाने वाली अभिनेत्री नेहा पेंडसे ने शो को अलविदा कह दिया है। यह दूसरी बार है जब सीरियल के लीड फीमेल किरदार 'गोरी मेम' के नाम से मशहूर इस किरदार का चेहरा बदल रहा है। ऐसी खबरें हैं कि नेहा पेंडसे की जगह फ्लोरा सैनी को अप्रोच किया गया है।ई-टाइम्स की रिपोर्ट के अनुसार, मेकर्स 'अनीता भाभी' के किरदार को निभाने के लिए फ्लोरा सैनी के संपर्क में हैं। सब कुछ ठीक रहा तो नेहा पेंडसे की जगह फ्लोरा यह किरदार निभा सकती हैं।ऐसा बताया जाता है कि सौम्या टंडन के शो को छोड़ने के बाद फ्लोरा सैनी के लिए यह रोल ऑफर किया गया था लेकिन उस वक्त उन्होंने मना कर दिया था। तब यह रोल नेहा पेंडसे की ऑफर किया गया।अब मेकर्स ने एक बार फिर से फ्लोरा को ओर रुख किया है। फ्लोरा कई बड़ी फिल्मों का हिस्सा रह चुकी हैं। उन्होने दबंग 2, बेगम जान और स्त्री जैसी फिल्मों में काम किया है। उन्हें ऑल्ट बालाजी की सीरीज गंदी बाद में अभिनय करने के लिए भी जाना जाता है।टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगअगले 2 महीने में मिल सकते हैं कमाई के करीब 30 मौके, IPO की कतार में कई कंपनियां******अगले 2 महीने में कमाई के कई मौकेनई दिल्ली। इस फेस्टिव सीजन में आपको कमाई के एक दो नहीं बल्कि करीब 30 मौके मिल सकते हैं। दरअसल अगले दो महीनों के दौरान करीब 30 कंपनियां आईपीओ बाजार में उतरने की योजना बना रही हैं। इस साल नई लिस्ट हुई कंपनियों के बेहतर प्रदर्शन को देखते हुए उम्मीद की जा रही है आगे आने वाले समय में भी कई अन्य नई कंपनियां भी अपने निवेशकों को बंपर रिटर्न दे सकती हैं। ऐसे में अगर आप भी बेहतर रिटर्न पाना चाहते हैं तोइन कंपनियों के बारे में जानकारियां जुटानी शुरू कर सकते हैं।सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अक्टूबर-नवंबर में कम से कम 30 कंपनियां शेयर बिक्री के जरिये कुल 45,000 करोड़ रुपये से अधिक की राशि जुटा सकती हैं। मर्चेंट बैंकिंग सूत्रों ने कहा कि जुटाई गई पूंजी का बड़ा हिस्सा प्रौद्योगिकी संचालित कंपनियों के खाते में जाएगा। खाद्य आपूर्ति कंपनी जोमैटो के सफल आईपीओ ने नई टेक कंपनियों को आईपीओ के लिए प्रोत्साहित किया है। जोमैटो के आईपीओ को 38 गुना अभिदान मिला था। एंजेल वन के उप-उपाध्यक्ष (इक्विटी रणनीतिकार) ज्योति रॉय ने कहा कि आमतौर पर जोमैटो जैसी कंपनियां निजी इक्विटी कंपनियों से धन जुटाती हैं और आईपीओ ने नए जमाने की टेक कंपनियों के लिए धन का एक नया स्रोत खोल दिया है।एक मर्चेंट बैंकिंग सूत्र ने बताया कि जिन फर्मों द्वारा अक्टूबर-नवंबर के दौरान आईपीओ के जरिये धन जुटाने की उम्मीद है, उनमें पॉलिसीबाजार (6,017 करोड़ रुपये), एमक्योर फार्मास्युटिकल्स (4,500 करोड़ रुपये), नायका (4,000 करोड़ रुपये), सीएमएस इंफो सिस्टम्स (2,000 करोड़ रुपये), मोबिक्विक सिस्टम्स (1,900 करोड़ रुपये) शामिल हैं। इसके अलावा नॉर्दर्न आर्क कैपिटल (1,800 करोड़ रुपये), इक्सिगो (1600 करोड़ रुपये), सैफायर फूड्स (1500 करोड़ रुपये), फिनकेयर स्मॉल फाइनेंस बैंक (1,330 करोड़ रुपये), स्टरलाइट पावर (1,250 करोड़ रुपये), रेटगेन ट्रैवल टेक्नोलॉजीज (1,200 रुपये) करोड़) और सुप्रिया लाइफसाइंस (1,200 करोड़ रुपये) भी इस अवधि में अपने आईपीओ जारी कर सकती हैं। एंजेल वन के रॉय ने कहा कि आने वाले महीने में कई बड़े आईपीओ की तैयारी की एक वजह महामारी के बाद अर्थव्यवस्था में उम्मीद से ज्यादा मजबूत सुधार है। इनवेस्ट19 के संस्थापक और मुख्य कार्यपालक अधिकारी कौशलेंद्र सिंह सेंगर ने कहा कि अगर बाजार की मौजूदा स्थिति बनी रही तो आने वाले साल में आईपीओ बूम के बढ़ने की उम्मीद है। ट्रू बीकन और जेरोधा के सह-संस्थापक निखिल कामत ने भी इसी तरह का राय देते हुए कहा कि अगर अगले 1-2 साल तक तेजी जारी रहती है, तो आईपीओ भीबड़ी संख्या में आते रहेंगे।यह भी पढ़ें: यह भी पढ़ें:

Wagle Ki Duniya टीवी शो के 10 मेंबर्स हुए कोरोना पॉजिटिव, रोकी गई शूटिंग

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगCorona काल में अच्‍छा मुनाफा कमाने के चक्‍कर में बिजनेसमैन को लगा 32 लाख का चूना, ऑनलाइन फ्रॉड का नया तरीका आया सामने******मुंबई के उपनगरीय इलाके कांदीवली में एक बिजनेसमैन के साथ ऑनलाइन फ्रॉड का अजीबोगरीब मामला सामने आया है। देश के बाहर से आए एक ईमेल में ऐसा बिजनेस प्रोपजल था, जिसे देखकर बिजनेसमैन को लालच आ गया। कांदिवली पुलिस ने बताया कि बिजनेसमैन के साथ 32 लाख रुपए का ऑनलाइन फ्रॉड हुआ है।पुलिस को दी गई शिकायत के मुताबिक, कांदीवली में रहने वाले बिजनेसमैन को जून माह में घाना की एक मेडिकल रिसर्च कंपनी की ओर से एक ईमेल प्राप्‍त हुआ। इसएक ऐसे ऑर्गेनिक केमीकल लिक्विड की खरीद करने का प्रस्‍ताव था, जो केवल भारत में ही उपलब्‍ध है। कंपनी ने बिजनेसमैन को कोरोना की वजह से इस लिक्विड की बड़ी मांग से मोटे मुनाफे का लालच दिया था।बिजनेसमैन ने एक सप्‍लायर से संपर्क किया और उससे प्राप्‍त कुटेशन और सैम्‍पल को घाना स्थित रिसर्च कंपनी को भेज दिया। इसके बाद कंपनी ने उसे 10 गैलन (लगभग 38 लीटर) लिक्विड खरीदने का ऑर्डर दे दिया। शिकायतकर्ता ने बताया कि कंपनी ने इसके लिए कोई अग्रिम भुगतान नहीं किया।हालांकि, जब बिजनेसमैन ने सप्‍लायर से संपर्क किया तो उसने 15 लाख रुपए एडवांस मांगे और एक महीने बाद और धन की मांग की। सप्‍लायर को 32.64 लाख रुपए का भुगतान करने और बदले में कोई उत्‍पाद न मिलने के बाद शिकायतकर्ता को एहसास हुआ कि उसके साथ धोखा हुआ है।इसके बाद बिजनेसमैन समता नगर पुलिस स्‍टेशन पहुंचा। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि ऑनलाइन फ्रॉड का एक मामला दर्ज किया गया है और इसकी अब जांच की जा रही है।टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगRajat Sharma’s Blog : इमरान ने सेना की सलाह ठुकरा कर अमेरिका का नाम क्यों लिया ?******पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान ने इस्तीफा देने से साफ इनकार कर दिया है। विपक्ष द्वारा लगाये गये अविश्वास प्रस्ताव पर रविवार को वोटिंग होनी है, वोटों के गणित में इमरान पीछे हैं लेकिन वह इस्तीफा न देने के अपने रुख पर क़ायम हैं। गुरुवार की रात को राष्ट्र के नाम अपने संबोधन में इमरान खान ने आरोप लगाया कि अमेरिका उन्हें सत्ता से बेदखल करने की साजिश रच रहा है। इमरान खान ने कहा- 'मैंने 20 साल तक क्रिकेट खेला । पूरी दुनिया ने और मेरे खिलाफ खेलनेवालों ने देखा कि मैं हमेशा आखिरी गेंद तक लड़ता हूं। मैंने अपने जीवन में कभी हार नहीं मानी । कोई ये मत सोचे कि मैं घर बैठ जाऊंगा। नतीजा चाहे जो कुछ भी हो, मैं पूरी ताकत के साथ लौटूंगा।'अपने लाइव भाषण के दौरान से एक बड़ी चूक हो गई। या तो यह चूक अनजाने में हुई या फिर ये जानबूझकर की गई। इमरान खान ने अपने भाषण में पहले तो अमेरिका का नाम लिया और बाद में ऐसा दिखाने की कोशिश की मानो अमेरिका का नाम उनके मुंह से गलती से निकल गया। फिर उन्होंने कहा कि यह खतरा किसी बाहरी मुल्क से आया है। अविश्वास प्रस्ताव को पाकिस्तान के खिलाफ बड़ी साजिश बताते हुए इमरान ने कहा कि वो उस मुल्क का नाम नहीं लेंगे क्योंकि इसके नतीजे पाकिस्तान के लिए अच्छे नहीं होंगे।इमरान खान ने कहा, सात मार्च की 'धमकी वाली चिट्ठी' में कहा गया कि अगर अविश्वास प्रस्ताव गिर गया तो पाकिस्तान को गंभीर नतीजे भुगतने होंगे। उन्होंने कहा कि चिट्ठी की ज़ुबान बेहद सख्त है और उसमें कई बार अविश्वास प्रस्ताव का जिक्र किया गया है। देर रात, पाकिस्तान विदेश मंत्रालय ने इस्मालाबाद में कार्यवाहक अमेरिकी राजदूत को बुलाकर कड़ा विरोध जताया और कहा कि इस तरह की सख्त कूटनीतिक ज़ुबान का इस्तेमाल पाकिस्तान को मंजूर नहीं है।इससे पहले दिन में इमरान खान ने राष्ट्रीय सुरक्षा समिति को वह नोट दिखाया जिसमें पाकिस्तानी राजदूत और एक वरिष्ठ अमेरिकी अधिकारी के बीच हुई बातचीत का पूरा ब्यौरा था। राष्ट्रीय सुरक्षा समिति की इस बैठक में कई सीनियर मंत्री और सेना के अधिकारी मोजूद थे। इमरान खान ने अपने लाइव भाषण में कहा कि उन्हें सत्ता से बेदखल करने के लिए विदेशों से फंडिंग करके साजिश रची गई। इमरान ने कहा कि वे पाकिस्तान की विदेश नीति को आजाद बनाने के लिए सियासत में आए थे और वो किसी कीमत पर पाकिस्तान की खुदमुख्तारी से समझौता नहीं करेंगे।अमेरिकी विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता नेड प्राइस ने इमरान खान के आरोपों को खारिज करते हुए कहा- 'इन आरोपों में कोई सच्चाई नहीं है। हम पाकिस्तान की संवैधिनिक प्रक्रिया और वहां के कानून का सम्मान और समर्थन करते हैं।' व्हाइट हाउस के कम्यूनिकेशन डायरेक्टर ने भी कहा, इमरान खान के इन आरोपों में 'कोई सच्चाई नहीं है' कि अमेरिका उन्हें सत्ता से हटाने के लिए विपक्षी नेताओं के साथ मिलकर काम कर रहा है। 'मुश्किलों में घिरे पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने अपने विरोधियों पर तीखे वार किये और उन्हें गुलाम कठपुतली बताया। उन्होंने कहा तीनों गुलाम कठपुतलियों (नवाज और शहबाज शरीफ, आसिफ जरदारी और बिलावल भुट्टो और मौलाना फजलुर रहमान) में इतनी हिम्मत नहीं है कि वो अमेरिका के खिलाफ एक भी शब्द बोलें। उनके (अमेरिका के) ड्रोन पाकिस्तान के अंदर निशाना साध रहे थे लेकिन पिछले 10 साल में उन्होने एक लफ्ज़ भी नहीं बोला।इमरान ने पूर्व तानाशाह जनरल परवेज मुशर्रफ को भी जम कर निन्दा की और कहा कि 9/11 के बाद अफगान युद्ध के दौरान उन्होंने पाकिस्तान को अमेरिका के हाथों बेच दिया। इमरान ने यह दावा किया कि वही अकेले नेता थे जिसने अमेरिकी ड्रोन हमलों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन की अगुआई की थी।इमरान खान ने पाकिस्तानी अवाम से कहा- “ मैं चाहता हूं कि आप लोग ये याद रखें कि हमारे बीच मीर जाफर कौन है जो हमारे मुल्क के खिलाफ काम कर रहे हैं। मीर जाफर और मीर सादिक जैसे लोगों ने ब्रिटिश ईस्ट इंडिया कंपनी के साथ मिलकर बंगाल के नवाब सिराजुद्दौला को हरा दिया और हमें फिरंगियों का गुलाम बना दिया था। विदेशी ताकतों से सांठ-गांठ करने के लिए पाकिस्तान की आनेवाली नस्लें आपको कभी माफ नहीं करेंगी। ...बाहरी ताकतों को नवाज़ शरीफ और आसिफ अली जरदारी इसलिए पसंद हैं कि उनके पास विदेशों में जमा उनकी जायदाद का पूरा ब्यौरा है। 'इमरान खान ने कहा, 'अमेरिका इसलिए नाराज था कि मैंने यूक्रेन युद्ध शुरू होने के समय रूस का दौरा क्यों किया । मैं आज अपने देश से सवाल कर रहा हूं कि क्या यही हमारी औकात है? हम 22 करोड़ आबादी वाले मुल्क हैं और बाहरी मुल्क हमें धमका रहा है। वे कोई वजह नहीं बता रहे हैं लेकिन बार बार यही कह रहे हैं कि इमरान खान रूस क्यों गए थे। वो ये कह रहे हैं कि इमरान खान ने अपने दम पर रूस जाने का फैसला किया जबकि विदेश मंत्रालय और फौज ने उन्हें रूस ना जाने की सलाह दी थी। हमारे राजदूत ने उन्हें बताया कि रूस का दौरा करने का फैसला सबसे सलाह मशविरा करने के बाद लिया गया था लेकिन वे इससे इनकार कर रहे हैं और ये कह रहे हैं कि अगर इमरान सत्ता में रहते हैं तो हमारे आपसी रिश्ते अच्छे नहीं हो सकते। असल में वे यह कह रहे हैं कि उन्हें उन लोगों से कोई समस्या नहीं है जो इमरान खान की जगह लेंगे।’इमरान खान ने वही किया जो फौज नहीं चाहती थी। फौज ने इमरान खान को बार-बार समझाया था कि वह अमेरिका का नाम न लें और इस विवादास्पद चिट्टी का जिक्र ना करें। इमरान खान बुधवार को पाकिस्तान की आवाम को संबोधित करनेवाले थे। लेकिन जब आर्मी चीफ जनरल बाजवा को पता लगा कि इमरान खान अमेरिका का नाम ले सकते हैं तब वे आईएसआई चीफ के साथ इमरान से मिलने पहुंचे और उसके बाद इमरान का राष्ट्र के नाम संबोधन रद्द हो गया। गुरुवार को भी इमरान खान का राष्ट्र के नाम संबोधन शाम सात बजे होना था। चूंकि उनकी पार्टी के नेता और फौजी अफसर उन्हें समझा रहे थे कि वो पाकिस्तान की अन्दरूनी सियासत पर खुल कर बोलें, लेकिन अमेरिका का नाम न लें। इसी चक्कर में पाकिस्तान के वजीरे आजम के भाषण में देरी हुई।लेकिन उसके बाद भी इमरान खान ने अमेरिका का नाम लिया। हालांकि इमरान ने ऐसा दिखाने की कोशिश की जैसे अमेरिका का नाम उनके मुंह से गलती से निकल गया। लेकिन पूरा भाषण सुनाकर लगा कि इमरान खान जो कहने आए थे उन्होंने वही किया। पाकिस्तान की आवाम को बता दिया कि उनकी सरकार को अमेरिका के आदेश पर गिराने की साजिश हुई। पाकिस्तान की फौज और विरोधी पार्टियों के नेता अमेरिका के इशारे पर चल रहे हैं। इमरान खान जानते हैं कि उनकी सरकार अब नहीं बचेगी इसलिए उन्होंने पाकिस्तानी आवाम की हमदर्दी हासिल करने की कोशिश की। क्योंकि इमरान जानते हैं कि आवाम की हमदर्दी उनकी सियासत को जिंदा रख सकती है।इमरान ने तो अपनी बात कह दी लेकिन उस पर विपक्ष की तरफ से कड़ी प्रतिक्रिया आई। इमरान खान के उत्तराधिकारी के रूप में पेश किए जा रहे शहबाज शरीफ ने इमरान के भाषणों पर प्रतिबंध लगाने की मांग की। शहबाज़ शरीफ ने कहा कि उमरान खान अब 'पाकिस्तान के लिए खतरा बन गए हैं'। शहबाज शरीफ ने कहा कि इमरान खान नियाजी ने सत्ता में बने रहने की कोशिशों के कारण पाकिस्तान को बदनाम कर रहे है। शहबाज़ ने कहा कि इमरान खान विपक्षी पार्टियों पर विदेशी फंडिंग का बेबुनियाद आरोप लगा रहे हैं लेकिन अगर उनका मुंह खुल गया तो फिर इमरान किसी को मुंह दिखाने लायक नहीं रहेंगे।संसद में पूरा गणित इस वक्त इमरान खान के खिलाफ है। फौज ने नेशनल असेंबली में इमरान खान को हराने की पुख्ता तैयारी कर ली है और विपक्ष की बहुमत को पक्का करने का काम मुक्म्मल कर लिया है। इमरान के पास अब कोई रास्ता नहीं बचा है और वो जानते हैं कि अब उन्हें जाना पड़ेगा। इसीलिए इमरान खुद को राजनीति में शहीद के तौर पर पेश करने की कोशिश कर रहे हैं।इमरान खान को खुद कुर्सी छोड़ने का जितना दर्द होगा उससे ज्यादा तकलीफ इस बात की होगी कि शहबाज शरीफ प्रधानमंत्री बन जाएंगे। इमरान खान इसे बर्दाश्त नहीं कर सकते इसलिए उन्होंने जनरल बाजवा से समझौता करने की एक आखिरी कोशिश की। उन्होंने जनरल बाजवा से अनुरोध किया कि वे उन्हें नेशनल असेंबली को भंग करने दें और नए सिरे से चुनाव के लिए तैयार हो जाएं लेकिन इसके लिए जरुरी होगा कि पहले विपक्ष अपना अविश्वास प्रस्ताव वापस ले। इमरान चाहते हैं कि फौज विपक्षी नेताओं को इसके लिए तैयार करे। लेकिन सवाल यह है कि इससे जनरल बाजवा का क्या फायदा ? उनके लिए तो अच्छा है कि एक मिली-जुली टूटी-फूटी सरकार हो ताकि उस पर कंट्रोल करना और उसे चलाना फौज के लिए ज्यादा आसान होगा। आनेवाले दिनों में पाकिस्तान की राजनीति काफी दिलचस्प रहेगी।टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंग1 अप्रैल से राजस्थान में बीयर की कीमत होगी कम****** राजस्थान में शराब पीने का शौक रखने वालों के लिए एक अच्छी खबर है। साल 2021-22 के लिए शनिवार को घोषित राज्य की आबकारी नीति के अनुसार, 1 अप्रैल से बीयर सस्ती दर पर उपलब्ध होगी। नई आबकारी नीति में बीयर पर अतिरिक्त उत्पाद शुल्क और एमआरपी में कमी की घोषणा की गई है, जिससे इसकी कीमत 30-35 रुपये कम हो जाएगी। इसके साथ ही देश में बनी अंग्रेजी शराब (आईएमएफएल) और आयातित शराब को छोड़कर समस्त आबकारी वस्तुओं पर कोई कोविड अधिभार या सरचार्ज नहीं लगेगा।पढ़ें-इनके अलावा, आईएमएफएल और बीयर पर लगने वाले वेंड फीस को भी खत्म कर दिया जाएगा। आबकारी नीति में हुए हालिया बदलाव में यह फैसला लिया गया है कि शराब की दुकानों का आबंटन लॉटरी सिस्टम की जगह ऑनलाइन किया जाएगा। अधिकारियों ने कहा कि राज्य सरकार ने दिल्ली और हरियाणा सहित पड़ोसी राज्यों से शराब की तस्करी को रोकने और शराब माफियाओं पर नकेल कसने के लिए यह निर्णय लिया है।पढ़ें-पढ़ें-नए नियम के अनुसार, एक व्यक्ति को राज्य में पांच से अधिक दुकानें और जिले में दो से अधिक दुकानें आवंटित नहीं की जाएंगी। हालांकि इस दौरान शराब की दुकानों की संख्या में कोई परिवर्तन नहीं होगा, संख्याएं ज्यों की त्यों रहेंगी। वर्तमान में, राज्य में 7,665 शराब की दुकानें हैं, जिनमें देशी शराब की दुकानें भी शामिल हैं। सरकार का लक्ष्य अगले वित्तीय वर्ष में उत्पाद शुल्क से 13,000 करोड़ रुपये कमाने की है। आदेश में कहा गया है कि बीयर बार लाइसेंस धारक अब फ्रेश बीयर बनाने का मिनी प्लांट लगा सकेंगे। इसमें नए बार लाइसेंस के आवेदन में पूरी फीस के बदले 10 फीसदी ही अग्रिम जमा करने का प्रावधान किया गया है।पढ़ें-पढ़ें-

Wagle Ki Duniya टीवी शो के 10 मेंबर्स हुए कोरोना पॉजिटिव, रोकी गई शूटिंग

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगNarendra Modi: प्रधानमंत्री मोदी गुरुवार को केरल पहुंचेंगे, INS विक्रांत को दिखाएंगे हरी झंडी******Highlightsप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरुवार को दो दिवसीय यात्रा पर केरल पहुंचेंगे, इस दौरान वह कोच्चि मेट्रो के दूसरे चरण की आधारशिला रखेंगे और भारतीय नौसेना के पहले स्वदेशी डिजाइन और निर्मित विमानवाहक पोत INS विक्रांत को भी चालू करेंगे। मोदी गुरुवार को कोच्चि मेट्रो के फेज 1ए के एसएन जंक्शन से वडक्केकोट्टा तक के पहले खंड का भी उद्घाटन करेंगे। कोच्चि मेट्रो रेल परियोजना का प्रस्तावित चरण 2 कॉरिडोर 11.2 किलोमीटर की दूरी तय करेगा और इसमें 11 स्टेशन होंगे। चरण 1 विस्तार कोच्चि मेट्रो रेल लिमिटेड द्वारा सीधे काम का पहला खंड है।चरण 1ए के उद्घाटन के साथ कोच्चि मेट्रो 24 स्टेशनों के साथ 27 किमी की दूरी तय करेगी। मोदी ने यहां 2017 में मेट्रो के पहले चरण का उद्घाटन किया था। मोदी गुरुवार को कोचीन हवाईअड्डे के पास कलाडी गांव में आदि शंकराचार्य के जन्म स्थान आदि शंकराचार्य जन्मभूमि क्षेत्र का दौरा करेंगे। वह यहां रात बिताएंगे और शुक्रवार को आईएनएस विक्रांत को चालू करेंगे।नौसेना की बढ़ेगी ताकतप्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भारत के पहले स्वदेश निर्मित एयरक्राफ्ट कैरियर ‘विक्रांत’ को ‘मेक इन इंडिया’ का बेहतरीन नमूना बताया और इसके समुद्री परीक्षण की ऐतिहासिक उपलब्धि पर नौसेना को बधाई दी। विक्रांत का समुद्र में बहुप्रतीक्षित परीक्षण बुधवार को शुरू हो गया। यह देश में निर्मित सबसे बड़ा और विशालकाय युद्धपोत है। इसे करीब 23,000 करोड़ रुपए की लागत से निर्मित किया गया है। इसका वजन 40,000 टन है। यह एयरक्राफ्ट कैरियर करीब 262 मीटर लंबा और 62 मीटर चौड़ा है। इस पर 30 लड़ाकू विमान और हेलिकॉप्टर तैनात किए जा सकते हैं। एयरक्राफ्ट कैरियर विक्रांत पर मिग-29के लड़ाकू विमानों और केए-31 हेलिकॉप्टरों का एक बेड़ा तैनात किया जाएगा।भारत इसके साथ ही उन चुनिंदा देशों में शुमार हो गया है, जिनके पास स्वदेश में डिजाइन करने, निर्माण करने और अत्याधुनिक एयरक्राफ्ट कैरियर तैयार करने की विशिष्ट क्षमता है। विक्रांत को कोचिन शिपयार्ड लिमिटेड ने बनाया है। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने भी विक्रांत के समुद्र में उतरने को आत्मनिर्भरता के लिए देश के अडिग प्रण की सच्ची गवाही बताया है।टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगHyundai 2020 तक लॉन्‍च करेगी 8 नई कार व एसयूवी, 2019 में आएगी मेड इन इंडिया इलेक्ट्रिक SUV******hyundaiदक्षिण कोरिया की प्रमुख वाहन निर्माता कंपनी भारत में अपनी 20वीं सालगिराह मना रही है और कंपनी ने कुछ नए लॉन्‍च को लेकर घोषणाएं भी की हैं। पहली घोषणा यह है कि हुंडई इंडिया 2020 तक देश में 8 नई कार लॉन्‍च करेगी। इनमें से दो कार हुंडई को दो नए सेगमेंट में प्रवेश करने में मदद करेंगी, जबकि पांच फुल-मॉडल बदलाव के साथ आएंगी। इन आने वाले आठ मॉडल में एक नई सबकॉम्‍पैक्‍ट और एक इलेक्ट्रिक एसयूवी भी शामिल होगी। कंपनी के एक वरिष्‍ठ अधिकारी ने कहा कि अगले साल के दूसरी छमाही में भारत में मेड इन इंडिया इलेक्ट्रिक एसयूवी पेश करने की योजना है। कंपनी ने कहा कि उसका उद्देश्य भारत के लिए सबसे उपयुक्त और प्रासंगिक इलेक्ट्रिक वाहन लाने के लिए अपनी वैश्विक प्रौद्योगिकी कौशल का लाभ उठाना है। हुंडई मोटर इंडिया के प्रबंध निदेशक और मुख्य कार्यकारी अधिकारी वाई के कू ने कहा कि हम 2019 की दूसरी छमाही में इलेक्ट्रिक एसयूवी पेश करेंगे। हम इसे आयात करेंगे।लंबी अवधि में कंपनी अपनी चेन्नई कारखाने में इलेक्ट्रिक मॉडल का उत्पादन करेगी।कू ने कहा कि कंपनी की योजना 2020 तक देश में आठ नए मॉडल पेश करने और 2021 की पहली तिमाही तक उत्पादन क्षमता को बढ़ाकर 10 लाख सालाना करने की है।हुंडई ने भारत में अपनी यात्रा की शुरुआत सेंट्रो के साथ की थी, जिसमें 1998 में लॉन्‍च किया गया था। 20 साल बाद कंपनी एक नई हैचबैक कार लॉन्‍च करने की तैयारी में है, जिसके बारे में अफवाह हैं कि यह नई सेंट्रो हो सकती है। हालांकि इस नई कार का नाम अभी तक तय नहीं हुआ है और हुंडई 16 अगस्‍त से एक नया डिजिटल विज्ञापन शुरू करेगी जिसमें उपभोक्‍ताओं से नई कार के नाम के बारे में सुझाव मांगे जाएंगे।

Wagle Ki Duniya टीवी शो के 10 मेंबर्स हुए कोरोना पॉजिटिव, रोकी गई शूटिंग

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगCorona Update: बीते 24 घंटे में देश में 1270 नए मामले, इतने लोगों की मौत******Highlightsदेश में कोरोना का खतरा अभी टला नहीं है। बीते 24 घंटे में देश में कोरोना के 1270 नए मामले सामने आए हैं और 31 लोगों की मौत हुई है। इस दौरान 1567 लोग कोरोना से ठीक होकर डिस्चार्ज हुए हैं।देश में कोरोना के कुल मामले 4,30,20,723 हैं और सक्रिय मामले 15,859 हैं। इस दौरान कुल रिकवरी केस 4,24,83,829 हैं और कुल 5,21,035 लोगों की मौत हुई है। इस दौरान वैक्सीनेशन की प्रक्रिया भी तेज है और अब तक 1,83,26,35,673 लोगों का वैक्सीनेशन हो चुका है।इससे पहले रविवार को देश में के 1421 नए मामले सामने आए थे और 149 लोगों की मौत हुई थी।बता दें कि भारत में कल कोरोना वायरस के लिए 4,32,389 सैंपल टेस्ट किए गए। वहीं कुल टेस्टिंग 78,73,55,354 हुई हैं। ये जानकारी भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (ICMR) ने दी है।बता दें कि चीन में कोरोना के मामले लगातार बढ़ रहे हैं। शंघाई के पुडोंग और आसपास के क्षेत्रों में सोमवार से शुक्रवार तक लॉकडाउन लगाया गया है। चीन में कोरोना के मामले बढ़ना इसलिए भी चिंताजनक है क्योंकि यहीं से कोरोना पूरी दुनिया में फैलने की बात सामने आई थी।कहा जा रहा है कि चीन में बढ़ रहे कोरोना की वजह से एक बार फिर इकोनॉमी पर असर पड़ सकता है, जिससे वस्तुएं महंगी हो सकती हैं। मिली जानकारी के मुताबिक, चीन में इस महीने अब तक 56,000 से अधिक कोरोना के केस सामने आए हैं। इसमें ज्यादातर मामले उत्तरपूर्वी प्रांत से हैं।चीन की कोरोना वैक्सीनेशन की दर लगभग 87 प्रतिशत है। लोगों को घर पर रहने के लिए कहा गया है और वस्तुओं को उनके घरों में पहुंचाने के लिए चेकपॉइंट बनाए गए हैं।

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगBCCI Age Software: बीसीसीआई उम्र की धोखाधड़ी रोकने के लिए इस सॉफ्टवेयर का करेगा इस्तेमाल, खर्चे में होगी भारी कटौती******भारतीय क्रिकेट बोर्ड (बीसीसीआई) खिलाड़ियों द्वारा होने वाली उम्र धोखाधड़ी को लेकर किसी भी तरह की ढिलाई बरतने की मूड में नहीं है। यही कारण है कि बीसीसीआई ने अगस्त 2020 में अपने पंजीकृत खिलाड़ियों के लिए सही आयु बताने की एक स्वैच्छिक योजना शुरू की थी और साथ ही साथ उसने उम्र की धोखाधड़ी करने वाले क्रिकेटरों को दो साल के लिए प्रतिबंधित करने का प्रावधान भी किया था।बीसीसीआई आयु धोखाधड़ी के लिए शून्य सहिष्णुता की अपनी नीति के तहत हर महत्वपूर्ण कदम उठाने का प्रयास कर रही है। इसे एक कदम आगे बढ़ाने और ज्यादा बेहतर बनाने के लिए वह प्रायोगिक तौर पर उम्र धोखाधड़ी का पता लगाने के लिए मौजूदा 'टीडब्ल्यूथ्री' पद्धति के साथ एक सॉफ्टवेयर का उपयोग करने की तैयारी में है। इसका उद्देश्य नतीजे को तुरंत प्राप्त करने के साथ-साथ लागत में 80 प्रतिशत तक की बचत करना है।बीसीसीआई फिलहाल उम्र निर्धारण के लिए 'टीडब्ल्यूथ्री' पद्धति (बाएं हाथ और कलाई के एक्स-रे पर आधारित) का उपयोग करता है। वर्तमान पद्धति में हर परीक्षण की लागत 2400 रुपये है और इसके परिणाम आने में तीन से चार दिन का समय लगता है जबकि 'बोनएक्सपर्ट सॉफ्टवेयर' का प्रस्तावित उपयोग तात्कालिक परिणाम देगा और लागत केवल 288 रुपये होगी।पूरी प्रक्रिया की व्याख्या करते हुए बीसीसीआई के नोट में कहा गया कि आयु की पुष्टि के लिए बीसीसीआई पर्यवेक्षक की उपस्थिति में खिलाड़ियों की कलाई का एक्स-रे कराता है और फिर राज्य क्रिकेट संघ एक्स-रे कॉपी को बीसीसीआई एवीपी (आयु सत्यापन विभाग) के पास भेजता है। उन्होंने कहा कि बीसीसीआई एवीपी उसे अपने पैनल के दो स्वतंत्र रेडियोलॉजिस्ट को भेजता है। रेडियोलॉजिस्ट इसका आकलन कर अपनी रिपोर्ट बीसीसीआई को सौंपता है और इस पूरी प्रक्रिया में काफी समय लगता है।38 राज्य संघों के खिलाड़ियों की निगरानी के लिए बीसीसीआई के पास चार रेडियोलॉजिस्ट है। इसके मुताबिक, "बोर्ड प्रयोग पर राज्य संघों के साथ काम करेगा। बोर्ड हालांकि अपने डेटाबैंक में सीमित संख्या में एक्स-रे पर चल रहे परीक्षण डेटा से संतुष्ट हैं, फिर भी हम इससे पूरी तरह संतुष्ट होने के लिए सभी संघों में बड़ी संख्या में एक्स-रे (लगभग 3800) के साथ सॉफ्टवेयर की जांच करना चाहते है।"गौरतलब है कि बीसीसीआई के अंतर्गत आने वाले टूर्नामेंट में कई बार आयु वर्ग के टूर्नामेंटों में कई बार धोखाधड़ी के मामले सामने आए हैं। जून 2019 में, जम्मू और कश्मीर के तेज गेंदबाज रसिख सलाम को गलत जन्म प्रमाण पत्र जमा करने का दोषी पाए जाने के बाद दो साल के लिए प्रतिबंधित कर दिया गया था। इससे पहले अंडर-19 विश्व कप स्टार मंजोत कालरा, कोलकाता नाइट राइडर्स और दिल्ली के बल्लेबाज अंकित बावने उन क्रिकेटरों में शामिल हैं जिन्हें अपनी उम्र छुपाने का दोषी पाया गया है।टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगपाकिस्तान के बलूचिस्तान में भीषण विस्फोट, 5 सुरक्षाकर्मियों की मौत, 28 घायल******Highlightsपाकिस्तान के अशांत दक्षिण पश्चिमी प्रांत बलूचिस्तान के सिबी जिले में मंगलवार को एक विस्फोट में 5 सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई और 28 अन्य घायल हो गए। पुलिस ने बताया कि घटना के समय राष्ट्रपति आरिफ अल्वी वार्षिक सांस्कृतिक महोत्सव में हिस्सा लेने के लिए क्षेत्र की यात्रा पर थे। विस्फोट एक खुली जगह में हुआ जहां महोत्सव का आयोजन हो रहा था। अधिकारियों ने बताया कि विस्फोट में 5 सुरक्षाकर्मियों की मौत हो गई। किसी भी हमले की तत्काल जिम्मेदारी नहीं ली है।बलूचिस्तान की सीमा ईरान और अफगानिस्तान से लगती है और यहां लंबे वक्त से विद्रोह भड़का हुआ है। बलूच विद्रोही संगठनों ने पूर्व में क्षेत्र में चीन-पाकिस्तान आर्थिक गलियारा (CPEC) परियोजना और सुरक्षा कर्मियों को निशाना बनाकर कई हमले किए हैं। विस्फोट उस वक्त हुआ जब वार्षिक महोत्सव में हिस्सा लेने आए राष्ट्रपति अल्वी वहां से चले गए। ‘डॉन’ अखबार ने आतंकवाद रोधी विभाग के अधिाकरी हफीज रिंद के हवाले से बताया, ‘विस्फोट राष्ट्रपति अल्वी के वहां से जाने के 30 मिनट बाद हुआ।’ रिंद ने कहा कि यह एक आत्मघाती हमला प्रतीत होता है, हालांकि जांच जारी है। स्वास्थ्य विभाग के समन्वयक डॉ. वसीम बेग ने कहा कि कम से कम 28 घायलों को सिविल अस्पताल लाया गया, जबकि उनमें से 5 की हालत गंभीर है। सिविल अस्पताल के चिकित्सा अधीक्षक डॉ. सरवर हाशमी ने बताया कि घायलों में ज्यादातर सुरक्षाकर्मी थे। हाशमी ने कहा कि गंभीर रूप से घायल 5 लोगों को प्रांत की राजधानी क्वेटा ले जाया गया है। बलूचिस्तान के मुख्यमंत्री मीर अब्दुल कुद्दुस बिजेंजो ने हमले की कड़ी निंदा की और अधिकारियों को विस्फोट में घायल लोगों को हर संभव चिकित्सकीय उपचार प्रदान करने का निर्देश दिया।शुक्रवार को एक ISIS आत्मघाती हमलावर ने पेशावर में के अंदर नमाज के दौरान खुद को उड़ा लिया था, जिसमें 63 लोग मारे गए और 200 से अधिक घायल हो गए। क्वेटा के फातिमा जिन्ना रोड में 2 मार्च को एक पुलिस वैन के पास बम विस्फोट हुआ, जिसमें एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी सहित 3 लोगों की मौत हो गई और 24 अन्य घायल हो गए। बलूचिस्तान के पंजगुर और नौशकी इलाके में 2 फरवरी को सुरक्षा बलों पर हुए हमले में कम से कम 20 आतंकवादी और 9 सैनिक मारे गए थे।

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंग41 दिन ब्रह्मचर्य का पालन करेंगे राम चरण! नंगे पांव नजर आए अभिनेता, पालतू कुत्ते के लिए मांगी थी मन्नत******Highlights'आरआरआर' अभिनेता राम चरण को मुंबई हवाई अड्डे पर काले लिबास पहने नंगे पैर चलते देखा गया। दरअसल 'रंगस्थलम' के अभिनेता ने 41 दिनों तक ब्रह्मचर्य का पालन करेंगे। सबरीमाला अयप्पा को मानने वाले राम चरण, आम तौर पर जब भी संभव हो, 41-दिवसीय अनुष्ठान 'दीक्षा' का पालन करते हैं। चूंकि अभिनेता 'आरआरआर' के बैक-टू-बैक प्रचार में व्यस्त थे, उन्होंने फिल्म की भव्य रिलीज के बाद 'दीक्षा' की शुरुआत की।राम चरण ने दीक्षा अनुष्ठान का पालन करने की शपथ ली थी, क्योंकि कुछ समय पहले उनका पालतू कुत्ता 'ब्राट' बीमार पड़ गया था। ने पहले अपने एक साक्षात्कार में बताया था कि मैंने पहले ही अपना पालतू कुत्ता खो चुका हूं। उसके जाने से मैं बहुत दुखी था और इसलिए मेरी पत्नी उपासना ने मुझे एक पपी उपहार में दिया। मैंने उसका नाम फिर से ब्रॉट रखा। ब्रॉट का पैर टूट गया था, इसलिए मैंने एक मन्नत मांगी थी कि मैं तब तक नॉनवेज नहीं खाऊंगा जब तक कि वह ठीक होकर दौड़ने नहीं लगता।अब जबकि 'मगधीरा' अभिनेता काले कुर्ता और नंगे पांव पोशाक में दिखाई दिए, करीबी सूत्रों का दावा है कि अभिनेता अपने प्रियजनों भलाई के लिए हर बार ऐसा करते हैं।टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगएक दशक बाद HDFC ने फि‍र की बाजार से पैसा जुटाने की तैयारी, 13 हजार करोड़ रुपए की है ये योजना****** भारत की सबसे बड़ी हाउसिंग फाइनेंस कंपनी (एचडीएफसी) ने मंगलवार को घोषणा की है कि उसके बोर्ड ने बाजार से 13,000 करोड़ रुपए की योजना को मंजूरी दे दी है। एचडीएफसी तकरीबन दस साल बाद दोबारा बाजार से इतनी बड़ी राशि जुटाने जा रही है। इस राशि का इस्तेमाल कंपनी अपनी बैंकिंग इकाई में हिस्सेदारी को कायम रखने और दबाव वाली संपत्तियों तथा स्वास्थ्य बीमा क्षेत्र में उतरने के लिए करेगी। देश के सबसे बड़े आवास ऋण कारोबारी द्वारा एक दशक में पहली बार इक्विटी जुटाने की योजना पेश की गई है। इसमें से 8,500 करोड़ रुपए की राशि का इस्तेमाल एचडीएफसी बैंक में अपनी हिस्सेदारी को 21 प्रतिशत पर कायम रखने के लिए किया जाएगा।एचडीएफसी के वाइस चेयरमैन एवं मुख्य कार्यकारी केकी मिस्त्री ने कहा कि निदेशक मंडल ने 13,000 करोड़ रुपए की इक्विटी जुटाने की मंजूरी दे दी है। आखिरी बार कंपनी ने 2007 में इक्विटी जुटाई थी। उससे पहले 1994 और 1987 में इक्विटी जुटाई थी। बाजार के दोहन को लेकर कंपनी काफी सतर्क है। इससे कई वर्षों के लिए पूंजी की जरूरत पूरी हो जाएगी। उन्होंने कहा कि यह राशि किसी भी रास्ते से, जैसे तरजीही निर्गम, पात्र संस्थागत नियोजन या किसी अन्य अनुमति वाले तरीके से जुटाई जाएगी। हालांकि, उन्होंने यह नहीं बताया कि यह राशि कब तक जुटाई जाएगी।मिस्त्री ने कहा कि इस बारे में ब्योरे को बोर्ड द्वारा गठित समिति द्वारा अंतिम रूप दिया जाएगा। मिस्त्री ने कहा कि हमने फरवरी, 2015 में एचडीएफसी बैंक के क्यूआईपी निर्गम में हिस्सा नहीं लिया था। इससे हमारी हिस्सेदारी घटकर 24 से 21.01 प्रतिशत पर आ गई थी। हम अपनी हिस्सेदारी को उसी स्तर पर रखना चाहते हैं। इसलिए 8,500 करोड़ रुपए की राशि का इस्तेमाल हिस्सेदारी कायम रखने के लिए किया जाएगा।

टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगPM-KISAN योजना में 20.48 लाख गलत लोगों को मिला 1364 करोड़ रुपया, सरकार ने पैसा वापस लेने की शुरू की प्रक्रिया******Govt pays Rs 1,364 cr to over 20 lakh undeserving beneficiaries under PM-KISAN केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अति-महत्‍वाकांक्षी योजना प्रधानमंत्री किसान सम्‍मान निधि योजना (PM-KISAN Samman Nidhi scheme) में एक बड़ी गड़बड़ी का खुलासा किया है। कृषि मंत्रालय ने एक आरटीआई के जवाब में कहा है कि अभी तक इस योजना के तहत 20.48 लाख अयोग्‍य लाभार्थियों के खातों में सरकार द्वारा 1364 करोड़ रुपये की राशि हस्‍तांतरित की गई है। ये आरटीआई कॉमनवेल्थ ह्यूमन राइट्स इनिशिएटिव (CHRI) से जुड़े वेंकटेश नायक की ओर से दायर की गई थी। (PM-KISAN) योजना को केंद्र सरकार द्वारा 2019 में लॉन्च किया गया था। इस योजना के तहत दो हेक्टेयर तक की जमीन वाले छोटे किसान परिवारों को सरकार की तरफ से साल में तीन बराबर किस्‍तों में 6000 रुपये की आर्थिक मदद दी जाती है।केंद्रीय कृषि मंत्रालय ने आरटीआई के जवाब में अयोग्य लाभार्थियों की दो कैटेगरी, अपात्र और आयकर भरने वाले किसानों, की पहचान की है जिन्‍हें इस योजना के तहत पैसे मिले हैं। कॉमनवेल्थ ह्यूमन राइट्स इनिशिएटिव (CHRI) के वेंकटेश नायक ने कहा कि इन अयोग्य व्यक्तियों में से आधे से ज्यादा मतलब करीब 55.58 प्रतिशत ऐसे लोग हैं, जो इनकम टैक्स भरने वालों की श्रेणी में आते हैं। बाकी 44.41 प्रतिशत इस योजना के लिए अयोग्य लाभार्थी हैं।नायक ने कहा कि मीडिया रिपोर्टों के अनुसार, इन अयोग्य व्यक्तियों के बैंक अकाउंट में ट्रांसफर की गई रकम की वसूली का काम शुरू कर दिया गया है। उन्होंने कहा कि आरटीआई अधिनियम, 2005 के तहत प्राप्त आंकड़े बताते हैं कि 2019 में पीएम-किसान योजना के शुरू होने के बाद से 31 जुलाई 2020 तक अयोग्य और आयकर दाता किसानों को 1,364.13 करोड़ रुपये का भुगतान किया गया है।आंकड़ों के हिसाब से देखा जाए तो अधिकतर अयोग्य लाभार्थी देश के पांच राज्यों पंजाब, असम, महाराष्ट्र, गुजरात और उत्तर प्रदेश से हैं।आरटीआई के जवाब के मुताबिक, 1,364.13 करोड़ रुपए की ये रकम, दो-दो हजार रुपए की 68.20 लाख किस्तों में भेजी गई है, जिसमें से 49.25 लाख किस्त आयकर दाता किसानों को भेजी गई और बाकी की 18.95 लाख किस्त दूसरे अयोग्य लाभार्थियों को भेजी गई है।किसानों की विभिन्‍न श्रेणियों को इस योजना से बाहर रखा गया है। इनमें संस्‍थागत जमीन मालिक, ऐसे किसान परिवार जिनके एक या अधिक सदस्‍य निम्‍नलिखित लाभार्थी हैं- पूर्व या वर्तमान में किसी संविधानिक पद पर हैं, पूर्व और वर्तमान में मंत्री, सांसद, विधायक, एमएलसी, मेयर और जिला पंचालय के चेयरमैन हैं, सेवानिवृत्‍त या मौजूदा सरकारी कर्मचारी, 10 हजार रुपये से अधिक मासिक पेंशन लाभार्थी, आयकरदाता और डॉक्‍टर, इंजीनियर, सीए और आर्किटेक्‍स जैसे पेशेवर। : : :टीवीशोके10मेंबर्सहुएकोरोनापॉजिटिवरोकीगईशूटिंगChhattisgarh News: CM भूपेश बघेल ने 20 रुपये में बेचा 5 लीटर गोमूत्र, सरकार की नई योजना के पहले विक्रेता बने******Highlights छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने लोकपर्व हरेली के मौके पर प्रदेश में गोमूत्र खरीद योजना की शुरुआत की है। गोधन न्याय मिशन योजना के तहत इस योजना की शुरुआत बघेल ने मुख्यमंत्री निवास में ही की। सीएम बघेल ने अपनी ही गौशाला से लाया हुआ 5 लीटर गोमूत्र चंदखुरी की निधि स्वयं सहायता समूह को बेचा। इसके लिए उन्हें बकायदा 4 रुपये प्रति लीटर के हिसाब से 20 रुपये का तुरंत भुगतान भी मिल गया। इसके लिए बकायदा मुख्यमंत्री ने समूह के रजिस्टर में अपना नाम पता भी दर्ज कराया जिसके बाद गोमूत्र को माप कर 4 लीटर आने पर 20 रुपये भी दिए गए। अपनी गौशाला का गोमूत्र बेचकर मुख्यमंत्री भूपेश बघेल अपनी सरकार की महत्वकांक्षी गोमूत्र खरीद योजना के पहले विक्रेता भी बन गए।बता दें कि छत्तीसगढ़ पहला राज्य है जहां इस तरह से गोमूत्र की खरीदी की जा रही है। सीएम बघेल ने वीडियो ट्विट कर लिखा, ''आज हरेली पर्व के शुभ अवसर पर हमने राज्य में गौ-मूत्र खरीदी का शुभारंभ किया। इस अवसर पर चंदखुरी की निधि स्व-सहायता समूह को 5 लीटर गौ-मूत्र बेचकर मैं पहला विक्रेता बना और मुझे 20 रुपये की आय प्राप्त हुई।''बता दें कि सरकार की इस योजना के पीछे लाने की मंशा प्रदेश में जैविक खेती के प्रयासों को आगे बढ़ाने के साथ-साथ पशुपालकों को गोमूत्र बेचकर होने वाली अतिरिक्त आय भी है। सरकार को राजस्व की प्राप्ति के साथ-साथ प्रदेश में जैविक कीटनाशकों के साथ-साथ जैविक खाद का भी उत्पादन होगा। सरकार गोबर और गोमूत्र खरीद के जरिए राज्य में जैविक खेती को बढ़ावा देगी।सरकार ने गोमूत्र की खरीद के लिए 2 साल पहले से चलाई जा रही गोधन न्याय योजना में गोमूत्र खरीद योजना बनाई है। छत्तीसगढ़ सरकार की बेहद महत्वाकांक्षी गौधन न्याय योजना के तहत अब तक गोबर दो रुपये किलो के हिसाब से खरीदा जा रहा है वही गोमूत्र को 4 रुपये लीटर के हिसाब से खरीदा जाएगा।

नवीनतम उत्तर (2)
2022-09-30 01:19
उद्धरण 1 इमारत
रेल की पटरियों के बीच करिश्मा तन्ना ने लगाया ग्लैमर का तड़का तो फैंस ने उडाया यूं मजाक, बोले- पीछे तो...****** (Khatron Ke Khiladi 10) की शूटिंग इन दिनों बुल्गारिया में चल रही है। हर एक स्टार रोहित शेट्टी (Rohit Shetty) के साथ मिलकर अपने डर को काबू करने की कोशिश में जुटा हुआ हैं। इसके अलावा कई ऐसे स्टार्स भी है जो शूटिंग के साथ-साथ कभी डांस तो कभी रेल की पटरियों के बीच खड़े होकर फोटो खिंचाकर एंजॉय कर रहे हैं। टीवी एक्ट्रेसने अपने इंस्टाग्राम में कुछ तस्वीरें शेयर की है। जिसमें वह रेल की पटरियों के बीच ट्रेडिशनल अवतार में नजर आ रही हैं। लेकिन उनका ये पोज मजाक का कारण बन गया।करिश्मा तन्ना ने इंस्टाग्राम में काफी एक्टिव रहती हैं। वह रोजाना बुल्गारिया से अपनी तस्वीरें और वीडियो शेयर करती रहती हैं। ऐसे की कुछ तस्वीरें करिश्मा ने शेयर की जिसमें वह साड़ी पहने हुए नजर आ रही हैं।करिश्मा तन्ना डिजाइनर मनी भाटिया (Mani Bhatia) की डिजाइन की हुई रफल साड़ी पहने हुए नजर आ रही हैं। इस लुक के साथ उन्होंने डीपनेक ब्लाउज और बेल्ट लगाया हुआ है। इसके साथ ही लाइट मेकअप और न्यूड लिपस्टिक के साथ बालों को ओपन किया हुआ है। जिसमें वह काफी खूबसूरत नजर आ रही हैं।करिश्मा का ये लुक सोशल मीडिया में काफी वायरल हो रहा हैं। हर कोई उनके लुक की काफी तारीफ भी कर रहे हैं।वहीं दूसरी ओर तस्वीरों में करिश्मा ट्रेन की पटरी के पास खड़े होकर पोज देती नजर आ रही हैं। बस फिर क्या यूजर्स ने उनका जमकर मजाक बनाना शुरू कर दिया।इस पोज के कारण एक यूजर ने लिखा, -पीछे तो देखा..ट्रेन आ रही है। वहीं दूसरे ने लिखा कि क्या तुम ट्रेन रोकने को खड़ी हो।वहीं एक यूजर ने यहां तक लिख दिया कि भगवान आपकी आत्मा को शांति दे। वहीं एक ने कहा कि काश कोई ट्रेन आ जाए। एक ने कहा कि दीदी ट्रेन आ जाएगी।लोगों ने करिश्मा की तस्वीर में इतने मजेदार कमेंट्स दिए कि हर कोई हंसते-हंसते लोटपोट हो जाएगा।वहीं करिश्मा ने ट्रोल की चिंता न करते हुए फिर स्टाइलिश तस्वीरें शेयर की है। जिसने वह ग्रीन कलर के आउटफिट्स पहने हुए नजर आ रही हैं।
2022-09-30 00:52
उद्धरण 2 इमारत
IND vs AUS : अभिषेक मनु सिंघवी का बड़ा बयान, बोले- उमरान मलिक को वापस लाओ******Highlightsभारत और ऑस्ट्रेलिया के बीच खेली जा रही टी20 सीरीज का पहला मैच टीम इंडिया हार गई है। पहला ही मैच हारने से भारतीय टीम को बड़ा झटका लगा है। हालांकि अभी सीरीज के दो और मैच बचे हुए हैं और टीम इंडिया सीरीज में वापसी कर सकती है। इस बीच ऑस्ट्रेलिया से हार के बाद टीम इंडिया और कप्तान रोहित शर्मा की खूब आलोचना हो रही है। भारत बनाम ऑस्ट्रेलिया सीरीज के लिए जिस टीम को खेलाया गया है, वही टीम इंडिया टी20 विश्व कप 2022 में भी खेलेगी। भारतीय टीम ने जिस तरह का प्रदर्शन इस मैच में किया है, उससे साफ है कि भारतीय टीम को विश्व कप 2022 में दिक्कत का सामना करना पड़ सकता है। इस बीच टीम इंडिया के प्रदर्शन के बाद कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री अभिषेक मनु सिंघवी ने भी एक ट्वीट किया है, जो सोशल मीडिया पर खूब पढ़ा और पसंद किया जा रहा है।टी20 विश्व कप इसी साल अक्टूबर से लेकर नवंबर तक ऑस्ट्रेलिया में खेला जाना है। इसके लिए भारतीय टीम का ऐलान कर दिया गया है। करीब करीब वही टीम ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ भी खेल रही है। इस बीच पूर्व केंद्रीय मंत्री अभिषेक मनु सिंघवी ने एक ट्वीट किया है, उसमें लिखा है कि टीम इंडिया को इस बात का ध्यार रखना चाहिए कि उन्हें टी20 विश्व कप में जसप्रीत बुमराह और मोहम्मद शमी की जरूरत है। भारतीय टीम को ऑस्ट्रेलिया में उसी तरह की पिच और मैदान मिलेंगे, जैसा मैदान मोहाली में था। इसके लिए अतिरिक्त गति की जरूरत है। अभिषेक मनु सिंघवी ने ये भी कहा कि किसी भी सूरत में उमरान मलिक को टीम इंडिया में वापस लाया जाना चाहिए।बता दें कि उमरान मलिक ने आईपीएल 2022 में सनराइजर्स हैदराबाद के लिए खेलते हुए अच्छा प्रदर्शन किया था। उन्होंने अपनी स्पीड और लाइन से सभी को चौंका दिया था। इसी के बाद उनका सेलेक्शन टीम इंडिया के लिए हुआ और वे भारतीय टीम के लिए डेब्यू करने में भी कामयाब रहे। लेकिन टी20 विश्व कप 2022 की टीम में उन्हें शामिल नहीं किया गया। इतना ही नहीं उन्हें ऑस्ट्रेलिया और दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ होने वाली टी20 सीरीज के लिए भी उन्हें भारतीय टीम में शामिल नहीं किया गया है। जब टीम इंडिया का ऐलान किया था, तब भी सोशल मीडिया पर उमरान मलिक को टीम मे शामिल न करने को लेकर काफी आलोचना हुई थी। उमरान मलिक लगातार 150 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तर से गेंदबाजी करने की क्षमता रखते हैं और उनकी यार्कर गेंदे काफी घातक होती हैं।
2022-09-30 00:15
उद्धरण 3 इमारत
केंद्रीय मंत्रियों का समूह करेगा जम्मू-कश्मीर का दौरा, जनता को बताए जाएंगे 370 हटने के लाभ****** जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटने के बाद क्या फायदा हुआ है औरकैसे हालात हैं, इसका जायजा लेने के लिए केंद्रीय मंत्रियों का समूह इसी महीने वहां का दौरा करेगा, सरकारी सूत्रों से यह जानकारी मिली है। सूत्रों के मुताबिक मंत्रियों का समूह जम्मू-कश्मीर की जनता को 370 हटने के बाद हुए सकारात्मक बदलावों के बारे में भी जागरूक करेगा। जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद केंद्र सरकार द्वारा वहां के हित के लिए क्या कदम उठाए गए हैं इसकी जानकारी भी वहां की जनता को मंत्रियों के समूह के द्वारा दी जाएगी।सूत्रों के मुताबिक 17 जनवरी को केंद्रीय मंत्री परिषद की बैठक होगी जिसमें जम्मू-कश्मीर में मंत्रियों के समूह के दौरे के शेड्यूल को अंतिम रूप दिया जाएगा।केंद्र सरकार ने 5 अगस्त को जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटा दी थी और साथ में जम्मू-कश्मीर तथा लद्दाख को अलग-अलग केंद्र शासित प्रदेश भी घोषित कर दिया था। अनुच्छेद 370 हटाए जाने के बाद शुरुआत में एहतिआत के तौर पर सरकार ने जम्मू-कश्मीर में कुछेक पाबंदियां लगाई थी और कुछ स्थानीय नेताओं को हिरासत में भी लिया था। लेकिन अब अधिकतर पाबंदियां खत्म की जा चुकी हैं और ज्यादातर नेता भी रिहा कर दिए गए हैं। अनुच्छेद 370 हटाने के बाद केंद्र सरकार ने जम्मू-कश्मीर में कई नई योजनाओं की शुरुआत की है और साथ में स्थानीय लोगों के लिए भारी संख्या में नौकरियां भी निकाली हैं।
वापसी